:

Thursday, May 2, 2013

मनमोहन तेरा जवाब नहीं ( व्यंग )

navneet
 * ये तुम्हारा "राग शांति मंत्रणा "
                       " दिल बार बार कहे रहा है मनमोहन तेरा जवाब नहीं ...और तेरी ये सरकार ,भ्रष्टाचार के सारे रिकार्ड ही तो दिए भाई ..बड़ी कमाल की है और .....ये दो टके का पाकीस्तान कभी सैनिको के सर काट कर भेजता है तो कभी सरबजीत जैसे किसान की लाश भेजता है और तुम लोग उसी से शांति मंत्रणा करते हो ? भाई देश का आम आदमी भी सुरक्षित नहीं है और नहीं है सुरक्षित देश के जवान, उनका सर कभी भी कलम हो सकता है और देश में पाकिस्तान के झंडे लहेराए जाते है .... फिर भी तुम और तुम्हारी चुड़ीदार सरकार "राग शांति मंत्रणा " गाते नजर आते हो ।"
*मौत के बदले मौत का हिसाब तो अमेरिका कर सकता है  
                       " कानून के हाथ में डंडा देकर आम आदमी को पीटवानेवालो जरा उस दिन का भी विचार करो जब यही आम आदमी वही डंडा लेकर सडको पर उतरेगा ..उस दिन भी क्या तुम और तुम्हारी बेकार सरकार " राग शांति मंत्रणा " गाए गी क्या ? ओर भी दो चार फूल पाकिस्तान को भेजो और आप भेजेंगे ही, क्यों की सर के बदले सर ,मौत के बदले मौत ये तो अमेरिका कर सकता है आप जैसे बुजदिल नहीं ...याद है ना ओसामा बिन लादेन ..और वही लादेन को तुम्हारी सरकार के बड़े नेता ओसामा जी कहते थे ..अरे भाई तभी तो कहे रहा हु की " मनमोहन तेरा जवाब नहीं "
* हाथ मे थैली लेकर कभी सब्जी खरीदने जाओ
                    " जादूई सरकार है तुम्हारी ...आम आदमी को करोडपति बना दिया वो भी १२ घंटो में ही ..ये कहेकर की सब्जी से लेकर दूध सब कुछ सस्ता है इस देश में ...भैया मनमोहन ...कभी जेब में ५०० रुपये ओर हाथ में थैली लेकर बाजार में सिर्फ सब्जी खरीदने जाना ..पता चल जायेगा की इस देश में सस्ताई कितनी है .... यार वो time वाले सही ही थे ...एक अर्थशास्त्री और एक अनर्थ शास्त्री में क्या फर्क होता है वो तो जनता को अभी अभी मालूम पड़ा ....तभी तो दिल कहेता है की " मनमोहन तेरा ....... जवाब ..... । "
* चीन का लश्कर दिल्ली पहुँचने के बाद सोचोगे क्या ?  
                   " कुछ दिन पूर्व देश के सैनिक मारे गए थे ..... आज देश का निर्दोष किशान मारा गया है ... मगर तुम्हे कुछ फर्क नहीं पड़ेगा क्यों की तुम तो सिर्फ भ्रष्टाचार से निस्बत रखते हो और जब भी बोलते हो तब " ग़ालिब " की शायरी ही ...कमाल करते हो देश में बम धमे होते है फिर भी आप कहते है सब कुछ ठीक है ...देश में पाकिस्तान के झंडे लहेराए जाते है ...आसाम में बांग्लादेसी घुस्पेथियो द्वारा हजारो हिन्दुओ को जलाया जाता है मगर आप फिर भी चुप हो ...चीन का लश्कर देश में २० km तक घुस आता है मगर आप ना जाने किसका इंतज़ार कर रहे हो ...शायद उनका लश्कर दिल्ली पहुंचे बाद में आप सोचेंगे .....  इसीलिए ही मनमोहन तेरा जवाब नहीं  ।"
* लगे रहो मनमोहन जी
                  " और भी बहुत कुछ है जिसकी वजह से मै और ये पाठक मित्र भी कहते है की मनमोहन तेरा जवाब नहीं ..यहाँ पर लिख भी देता वो सब मगर क्या करू ...गूगल बाबा की जगह भी कम पड़ेगी ..... तो मनमोहन जी आप लगे रहो ...देश के कानून का गलत इस्तेमाल करते रहो ..... सुप्रीम चाहे कुछ भी कहे क्यों की ?...... आप तो उनका कहेना मानते ही नहीं :) ...आप तो कहेना सिर्फ एक ही व्यक्ति का मानते है जिसका नाम देश का छोटा बच्चा भी जानता है ...इसीलिए तो मनमोहन तेरा जवाब नहीं ।"

आखिर में इतना ही कहेंगे की
जी ,
जी,
सी एन जी ,
एल पी जी,
राहुल जी,
सोनिया जी,
ओय तू किथ्हे फस गया जी



चलो बच्चो खेल खत्म ...तालिया बजाओ और यही कहते सीधे घर जाओ की 
" मनमोहन तेरा जव़ाब ....... । "
:::

                * आनेवाली पोस्ट : up coming post 
* ये जच्चा बच्चा ....स्टील मेन आखिर मानता क्यू नहीं है भाई ? 
* कौन कौन आएंगे इस राहुल बाबा को मनाने ?
* क्या वो सब मिलकर इस बच्चे को मना पाएंगे ?
* इन सारे सवालो का जवाब ओर जबर्दस्त वीडियो आपको आनेवाली अगली पोस्ट मे मिलेगा 
                      तब तक के लिए पढ़ते रहिए ......... " मनमोहन तेरा जवाब नहीं "
 
भैया ... "मनमोहन तेरा जवाब नहीं" पोस्ट अच्छी लगी हो तो फिर कमेन्ट मे कंजूसी मत करना ......हा हा हा हा ..... 

::
:

23 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (03-05-2013) के "चमकती थी ये आँखें" (चर्चा मंच-1233) पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय शास्त्री जी

      Delete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुतिकारण लगा !

    ReplyDelete
  3. रमेश भाई .... बहुत बहुत शुक्रिया

    ReplyDelete
  4. sahi jagaha pe nishana mara sir bahut badhiya...........

    ReplyDelete
    Replies
    1. अश्विनभाई आप सबको पसंद आई ये पोस्ट यही मेरे लिए काफी है :)

      Delete
  5. TULSI BHAI,AAP SAHI PHARMATE HAIN...JI
    HAMNE,GULAMI NAHI DEKHI HAI,JANM 1947 KE BAAD KA HAI'
    PHIR BHI AAJ SAMAJH SAKTE HAIN KI BHARAT KO KIS TARAH
    SE VIDESHIYON NE LOOTA THA JI.AUR AAJ BHI LOOT RAHA HAI.INDIA KO BHARAT BANAO...JI.

    ReplyDelete
    Replies
    1. रामप्रसाद जी सही फरमाया आपने वक़्त आ गया है की अब india को भारत बनाया जाए
      शुक्रिया दोस्त

      Delete
  6. TULSI BHAI,AAP SAHI PHARMATE HAIN...JI
    HAMNE,GULAMI NAHI DEKHI HAI,JANM 1947 KE BAAD KA HAI'
    PHIR BHI AAJ SAMAJH SAKTE HAIN KI BHARAT KO KIS TARAH
    SE VIDESHIYON NE LOOTA THA JI.AUR AAJ BHI LOOT RAHA HAI.INDIA KO BHARAT BANAO...JI.

    ReplyDelete
  7. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(4-5-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये इस पोस्ट का और मेरी कलम का बहुमान है की ये पोस्ट लगातार दूसरी बार " चर्चा मंच " के लिए चुनी गई
      शुक्रिया मेरा हौसला बढ़ाने के लिए

      Delete
  8. Maza aa gya bhai. Kya post dali hai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. चक्रवर्ती जी ...नमस्कार ..... इस के बाद की पोस्ट पढ़िएगा ..ओर भी मजा आएगा :)

      Delete
  9. ab tak kaha the ji....mast mast...

    jai baba banaras....

    ReplyDelete
    Replies
    1. कौशल सर जी ...आपके दिल मे झाँको मै वही बैठा हु ..
      जय हो बाबा बनारस

      Delete
  10. mere 64 years zindagi me anek P Maye magar aisa ganda pm abhi tak nehi aya

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय कीशन जी आपने PM देखे थे बिना रिमोटवाले ....मगर ये रिमोटवाला pm है :)

      Delete
  11. Bhai Saheb kya likhun is MAUN-Mohan k bare me ....ye to sirf apne bharat me hi ho sakta hai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. उज्ज्वल भाई आप सही फरमाते है ये तो सिर्फ भारत मे ही हो सकता है

      Delete
  12. बहुत सुंदर प्रस्तुती। मेरे ब्लॉग http://santam sukhaya.blogspot.com पर आपका स्वागत है. अपनी प्रतिक्रिया से अवगत कराये, धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. भगीरथ जी आपका बहुत बहुत आभार

      Delete

आओ रायता फैलाते है

Note: Only a member of this blog may post a comment.