:

Wednesday, May 29, 2013

चीयर्स गर्ल्स के ठूमके ओर "श्रीशांत "की महेनत

                "चड्डी पहेनी हुई चीयर्स गर्ल्स के ठूमके ओर "श्रीशांत "की महेनत से चल रहा है "आईपीएल" का खेल, जिस से... विदु से लेकर श्रीनिवासन तक की भर्ती है जेब ...बड़े ही कमाल का खेल बन गया है मैदान मे क्रिकेट ओर मैदान के बाहर फिक्सिंग ...ये हरभजन भी कमाल का नीकला उसने तो कुछ साल पहले ही श्रीसंत को सजा दी थी जैसे वो जान गया हो ....अरे वो कान के नीचे बजाया हुवा चांटा ... ही ही ही |"
 

               " श्रीनिवासन ओर श्रीशांत ये दोनों ने मिलकर क्रिकेट खेल पर ही धब्बा लगा दिया वो भी ऐसा की सुपर निरमा से या फिर वो सलमान खान बेचता है वो डिटर्जेंट से भी साफ नहीं हो सकते है ,भैया ये दोनों साउथ इंडियन ने मिलकर क्रिकेट का तो ठीक मगर देश का भी सत्यनास कर दिया क्यू की हाल ही मे सीलेक्ट हुई भारतीय क्रिकेट टीम को भारतीय टीम न कहेते हुवे " चेन्नई टीम " कहे तो भी गलत नहीं है क्यू की 11 मे से 5 खीलाड़ी तो " चेन्नई टीम " के ही है |"

            " अपना " मुरली विजय" तो हर बार आईपीएल खत्म होते ही भारतीय टीम मे सीलेक्ट हो जाता है ओर हर बार बिना मुरली बजाए ही देश की लुटिया डुबो देता है फिर 1 साल के लिए टीम से बाहर ओर जैसे ही आईपीएल खत्म वापस मुरली टीम मे शामिल ....कमाल का सेटअप है ये |"
 

            " बीचारा "हरभजन " इस सीजन मे अश्विन से भी बढ़िया प्रदशन रहा अगर फिर भी वो टीम से बाहर है क्यू की वो मुंबई का प्लेयर था ....चेन्नई का नहीं ....... यहाँ पर भी फिक्सिंग ?........ हो सकता है भाई क्यू की वो टीम किसी ओर की नहीं मगर "भारतीय क्रिकेट बोर्ड " के अध्यक्ष की है ओर आईपीएल मे जो ये फिक्सिंग का भूत आया है उसके सभी रास्ते जांच के मुताबिक अभी तक तो " चेन्नई टीम " की तरफ ही जा रहे है ........ | "

पढ़िये इस ब्लॉग का एक आर्टिकल " दक्षिण भारत " अखबार मे जो 28/05/13 के दिन पेज नंबर 6 पर था
                            " ब्लॉग बाइट्स " शीर्षक है
आर्टिकल का नाम :
आह ! आईपीएल फिक्सर हार गए




इस ब्लॉग मे भी आप पढ़ सकते है
यहाँ क्लिक करे

:::
:
 

4 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज बुधवार (29-05-2013) बुधवारीय चर्चा ---- 1259 सभी की अपने अपने रंग रूमानियत के संग .....! में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया आदरणीय मयंक जी

      Delete
  2. लोग अगर इसे देखना बन्द कर दें तो यह झंझट ही खत्म हो जायेगा. मैंने तो अजहर, जड़ेजा काण्ड के बाद से देखना ही बन्द कर दिया है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. भारतीय नागरिक जी सही कहा आपने आपसे सहेमत हु मै

      Delete

Stop Terrorism and be a human

Note: Only a member of this blog may post a comment.