:

Monday, May 27, 2013

आह ! आईपीएल फिक्सर हार गए : csk

            " अगर फिक्सिंग का भंडा नहीं फूटता तो यकीनन ही चेन्नई बनता चेम्पियन इस मे अब कोई शक नहीं है बल्कि लोग तो यहाँ तक कहे रहे है की केप्टन कूल ,सुपर धोनी की जांच हो ,आईपीएल मे फिक्सिंग का अड्डा याने चेन्नई सुपर किंग ओर उसके मालिक जो भारतीय बोर्ड से है श्रीनिवासन उन पर आफत आई और चेन्नई कैसे हारा ? शायद चेन्नई को हराकर वो कुछ साबित करने मे लगे हो की वो फिक्सिंग मे नहीं है

 * कुछ सवाल जिस पर आप भी गौर करे
  • चेन्नई की टीम से जो भी खेलता है वही भारत की टीम मे शामिल होता है
  • चेम्पियन ट्रॉफी के लिए चूनी गई टीम भारतीय टीम है या चेन्नई की ?
  • चेम्पियन ट्रॉफी के लिए 11 मे से 5 खिलाड़ी चेन्नई टीम के है
  • अश्विन से बेहतर प्रदशन हरभजन का रहा है मगर हरभजन बाहर है
  • मुरली विजय से बेहतर और भी खिलाड़ी है मगर आईपीएल सीजन के बाद तुरंत ही मुरली का चयन होता है ... जो फ्लॉप ही रहते है
ऐसे तो अनेक सवाल है ...
धोनी का खेल जानिए :
                धोनी जो भारतीय टीम का कप्तान है मगर उसकी एक बात समज नहीं आती है की जब भारतीय टीम के ऊपरी 2 या 3 बल्लेबाज जल्दी आउट हो जाते है ओर भारत पर प्रेसर होता है तब धोनी भाई साहब अपना बल्लेबाजी का क्रम नीचे की ओर धकेल देते है याने 5 या 6 या 7 ओर आखिर तक गेंदबाज बल्लेबाजो के साथ खड़े रहते है अरे भाई आखरी बल्ले बाजो के साथ से मेच नई जीता जा सकता है बल्कि मुश्किल वक़्त मे जब विकेट गिर रही हो तब धोनी को आना चाहिए
* तुम लड़ो हम कपड़े संभालते है  
     ओर अगर भारतीय सलामी बल्लेबाज जोरदार शुरुवात करते है तो धोनी भाई साहब 5 वे,6 ठे नंबर से छलांग लगाकर बल्ला घुमाते हुवे 3 रे या चौथे स्थान पर खेलने आ जाते है ,भैया अच्छी शुरुवात के बाद तो हर कोई खेल सकता है मगर खराब शुरुवात पर हकीकत मे कप्तान को ही आना चाहिए आगे .....मगर धोनी यहाँ पर जैसे कहेता हो की तुम लड़ो हम कपड़े संभालते है ..... हम उन सिपाहियो के साथ आखरी लड़ाई लड़ेंगे जिसे बल्लेबाजी भी पता नहीं
 
जरा सोचो
चेन्नई की तरफ से खेलता है वो भारत की टीम मे कैसे आता था ?
आज भारत की आधी टीम चेन्नई की टीम क्यू है ?  
 
:::
:
 

2 comments:

  1. बहुत खूब तुलसीभाई, आज का आपका पोस्ट गैर वाणिज्यिक प्रयोग के लिए अपने दैनिक समाचार पत्र के संपादकीय पृष्ठ पर "ब्लॉग बाइट्‌स' कॉलम में प्रकाशित कर रहा हूं। पूर्वानुमति की आशा है। देखें 28मई को प्रकाश्य समाचार पत्र "दक्षिण भारत'में। इन दिनों शायद सर्वर में परेशानी के लिए हमारा ई-पेपर देखने में आपको परेशानी आए, लेकिन आपकी अनुमति हो तो मैं कल अखबार में प्रकाशित आपके विचार ई-मेल के माध्यम से भेज सकता हूं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जरूर से सर ये तो मेरी खुश किस्मती रहेगी

      Delete

आओ रायता फैलाते है

Note: Only a member of this blog may post a comment.