:

Thursday, August 9, 2012

ये भगतसींह कौन है बे ? "आर टी आई" ने खोली पोल

भगतसींह को शहीद मानने से हिचक रही है सरकार एक "आर टी आई" ने खोली पोल

ये भगतसींह कौन है बे ? ..ऐसा है सरकार का रवैया ..चौंक गए ना मगर ये सच्चाई है की भगतसींह को सरकार शहीद का दर्जा नहीं देती है मगर मानो कहे रही हो की कसाब हमको जान से प्यारा है कमाल की है ये सरकार और उसके उसूल |"

" देश के लिए जान न्योछावर करनेवाले शहीद भगत सींह और उनके साथियो को स्वतंत्रता संग्राम के शहीद मानने से सरकार हिचक रही है ..क्या आप सो रहे है ? जागो वर्ना ये

सरकार सिर्फ गाँधी परिवार को ही शहीदी का दर्जा देगी वैसे भी देश को "गाँधीस्तान" बना ही दिया है इस कमीनी कांग्रेस सरकार ने आपको यकीन ना आये तो ये लिंक " गाँधीस्तान " पर क्लिक करे हर जगह है "नकली गाँधी परिवार" का ही नाम ..ऐसा हो रहा है क्यों की हम सो रहे है ? "

" देश के लिए हस्ते हस्ते फांसी पर चढ़नेवाले भगत सींह और उनके साथियो की बजाय ये सरकार कही कसाब और अफ़ज़ल को देश के स्वतंत्र सेनानी ना बना दे इस बात का तो ख्याल रखना अब और ये सरकार ऐसा करेगी भी क्यों की अफ़ज़ल के लिए माफ़ी का तकता तैयार तो हो चूका है ये वही अफ़ज़ल है जिसने "सांसद भवन" पर हमला किया था और कुछ दिनों बाद देश के महेंगे और कांग्रेस के महेमान " कसाब " को भी माफ़ किया जायेगा | "  

" देश के लिए हस्ते हस्ते सूली पर चढ़नेवाले भगत सींह और उनके साथियों को शहीद मानने से जिजक रही है सरकार मगर वही देश के देशवासियों का खून बहानेवाले कसाब को महेमान और संसद पर हमला करनेवाले अफ़ज़ल को माफ़ी देने की सोच रही है सरकार ..बंगलादेशी घुसपेठियो के द्वारा हजारो भारतीयों का खून भले ही बहे मगर वही बंगलादेश को ६० एकड़ जमीन देने की सोच रही है सरकार ...आखिर क्यों मरवाना चाहती है सरकार इस देश के आम आदमी को ? जो पहले से ही सरकार द्वारा फैलाई गयी महेंगाई और भ्रस्टाचार के बोज तले दबा हुवा है आखिर उसका गुनाह क्या है ? 

" क्या आपकी नजर में " भगतसींह " शहीद नहीं है ? ..अगर है तो फिर आप भी चुप क्यों हो भाई ? आवाज उठाओ ..याद रहे भगत सींह की क़ुरबानी की वजह से ही आज आप आज़ाद भारत में रहेते हो दिखा दो इन नेताओ को उसली असली औकात ..और अगर फिर भी नहीं मानते है तो अब समज लेना की आर या पार की लड़ाई लड़नी ही पड़ेगी जनता को | "




 :::::::::::::::::::::::::::::
::::::::::::::::::::::::
::::::::::::::::
:::::::::
:::::::
::::
:::
:::
:



30 comments:

  1. अबे भगत सिंह कौन है, आर टी आई मौन ।
    हर शहीद गांधी मिला, शेष सभी हैं गौण |

    शेष सभी हैं गौण, गुरु अफजल को जाने |
    है कसाब मेहमान, आज के बड़े सयाने |

    कर जमीन का दान, बांग्ला देश मुकम्मल |
    भारत में घुसपैठ, बनाये ढाका मलमल ||

    ReplyDelete
    Replies
    1. रविकर साहब आपने सही कहा है " हर शहीद गाँधी मिला " ..उम्दा पंक्तियों के लिए आभार

      Delete
    2. शुभकामनायें |
      जय श्री कृष्ण ||

      Delete
  2. उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी जरूर ...आपका तहे दिल से शुक्रिया

      Delete
  3. सार्थक और जरुरी पोस्ट आँखें खोलने में सक्षम अच्छी जानकारी आभार

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुनील कुमार जी आपका तहे दिल से शुक्रिया ..आज वाकई में देश को भगत की जरूरत है

      Delete
  4. amar shahid bhagat singh ko shat-shat naman..........sarkar shahid mane ya na mane har hindustani ke dil me rahenge bhagat singh

    ReplyDelete
    Replies
    1. संध्या जी ...क्यों नहीं माने सरकार भगत को शहीद ? ...देश के असली शहीद है भगत सींह

      Delete
  5. बहुत अच्छी प्रस्तुति! मेरे नए पोस्ट "छाते का सफरनामा" पर आपका हार्दिक अभिनंदन है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रेम सरोवर जी आपका बहुत बहुत शुक्रिया भाई

      Delete
  6. जमाना बदल गया है
    तरीका बदल गया है
    भगत सिंह तेरे देश का
    हर सलीका बदल गया है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. भगत सिंह तेरे देश का सलीका बदल गया है ...सही कहा आपने

      Delete
  7. ये तो रविकर भाई गनीमत है वेद चार ही हैं वरना ये कोंग्रेस के सारे चतुर्वेदी जो कहतें हैं कौन राम देव ?पञ्च वेदी हो जाते .बहुत बढ़िया व्यंग्य किया है आपने शःदों को नकारने वाले एक दिन उन्हें आतंकी घोषित करके उनपे मुकदमा भी चला देंगे .ये सारे पूडल हैं इटली के .
    ram ram bhai
    शुक्रवार, 10 अगस्त 2012
    काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा में है ब्लड प्रेशर का समाधान
    काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा में है ब्लड प्रेशर का समाधान
    ram ram bhai

    ReplyDelete
  8. ये तो रविकर भाई गनीमत है वेद चार ही हैं वरना ये कोंग्रेस के सारे चतुर्वेदी जो कहतें हैं कौन राम देव ?पञ्च वेदी हो जाते .बहुत बढ़िया व्यंग्य किया है आपने शहीदों को नकारने वाले एक दिन उन्हें आतंकी घोषित करके उनपे मुकदमा भी चला देंगे .ये सारे पूडल हैं इटली के .
    ram ram bhai
    शुक्रवार, 10 अगस्त 2012
    काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा में है ब्लड प्रेशर का समाधान
    काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा में है ब्लड प्रेशर का समाधान
    ram ram bhai
    http://veer

    ReplyDelete
  9. हिंदी दीक्षित होने पर ग्रेजुएशन सेरीमनी करवाओ ,
    असम यू पी ए टू ,अवैध हैं जन जन को समझाओ ,
    अडवानी सच बोलेंगे

    ReplyDelete
    Replies
    1. वीरुभाई धन्यवाद् आपका

      Delete
  10. itihaas ke sath beimaani...thoo...

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये इतिहास के साथ बैमानी ही करते आ रहे है

      Delete
  11. गज़लगंगा ब्लॉग का एक शेर याद आ गया, शायद इसी ओर इशारा है-

    'सारे कुनबों को दफन कर डाला
    एक ही खानदान बाकी है.'

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी बिलकुल सही लिखा है

      Delete
  12. Codngress ke sabhi mantrio aur karyakaro ko sirf Italiyan daayan diikhaayi deti he.

    ReplyDelete
    Replies
    1. mukesh bhai sahi kaha aapne aapse sahemat hu mai

      Delete
  13. Replies
    1. shukriya shivam bhai ..is post ko blog buletin ka hissa banane ke liye tahe dil se aabhari hu

      Delete
  14. देश तो फिर भी समझता है इसे।

    ReplyDelete
  15. इस देश में शहीद तो अब कोई बचा ही नहीं है. भगत सिंह और चंद्रशेखर आजाद को आतंकवादी बताने की साजिश तो हो ही चुकी है. ऐसी सरकार को सबक सिखाने का बीड़ा उठाना तो हमको ही होगा. सिर्फ अगर कलम के सहारे ही चाहे तो हम कितनों के विचार इस सच्चाई से बदल सकते हैं. हर इंसान सिर्फ एक को समझा सके सरकार की नीयत और हकीकत क्या है? और वे चाहते क्या है? तो शायद इनके बलिदान से मिली इस आजादी को सार्थक बनाया जा सके. अगर वर्तमान गाँधी परिवार से ही शहीदों के विषय में पूछा जाय तो शायद बताने में असमर्थ होंगे . अगर दूर क्यों जाते हैं? संसद में बैठे सभी सांसद देश की आज़ादी के लिए कुर्बान हुए प्रमुख शहीदों के विषय में नहीं बता पायेंगे. ये आजाद भारत की संसद की तस्वीर है.
    आपकी आवाज के साथ आवाज मिलने के लिए हम तैयार हैं. कसाब और अफजल को क्रांतिकारियों में शामिल करने की सरकार की साजिश को अभी और देखने का वक़्त शेष है लेकिन उनको मेहमान की तरह से पाल रहे सरकार के लक्षण साफ समझ आ रहे हैं.

    ReplyDelete
    Replies
    1. rekha ji sahi kaha hai aapne aap se mai puri tarha sahemat hu

      Delete

आओ रायता फैलाते है

Note: Only a member of this blog may post a comment.