:

Friday, October 19, 2012

चिदम्बरम फसे केबिनेट सचिव ने फोड़ा 2 जी बॉम्ब

2 जी कांड का सबसे बड़ा खुलासा  ,मनमोहन ओर चिदम्बरम फसे
* पूर्व केबिनेट सचिव ने किया खुलासा
* चिदम्बरम चाहते तो रोक सकते थे ये घोटाला
* प्रधानमंत्री मनमोहन भी रोक सकते थे मगर उन्होने ध्यान ही नहीं दिया

                    " अगर सरकार 2008 के हिसाब से स्पेकट्रूमका दाम तय करती तो सरकार को 35000 हजार करोड़ की कमाई होती ओर ये खुलासा करते वक़्त केंद्र सरकार के सबसे बड़े ओफिशर रहे चुके एम.चन्द्रशेखर ने कहा की इस बात की टिप्पणी प्रणव मुखर्जीके मंत्रालय ने "पीएमओ " ऑफिस को भी दी थी जिसमे चिदम्बरम का नाम देते हुवे यही बात दोहराई गयी थी |"

                     " उन्होने आज अपनी बात रखते हुवे मनमोहन सिंह पर निशाना लगाते हुवे कहा की मैंने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को स्पेक्ट्रम के दाम 2008 के दामो के हिसाब से तय करने की बात की थी ओर मैंने प्रधानमंत्री कार्यालय को भेजी हुई नोट मे भी यही लिखा हुवा था | "

* प्रणब ने भी लिखी थी चिट्ठी मनमोहन को
                       " जेपीसी के पूर्व केबिनेट सचिव एम चन्द्रशेखर ने कहा की 25 मार्च 2011 के दिन घटी उस घटना के बारे मे उनका कोई लेना देना नहीं है जिसके बाद वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ओर चिदम्बरम के बीच जगदा हुवा था चन्द्रशेखर ने जेपीसी को बताया की वो नोट वित्तमंत्रालय ने तैयार की हुई थी ओर बाद मे वित्तमंत्री प्रणब मुखर्जी के देखने के बाद प्रणब मुखर्जी ने पीएमओ कार्यालय के पास वो नोट भेज दी थी जिसमे प्रणब ने साफ लिखा था की अगर चिदम्बरम चाहते तो इस घोटाले को रोक सकते थे | "

* सबसे बड़ा खुलासा 
                        " चन्द्रशेखर ने आगे बताया की प्रधानमंत्री मनमोहन ने 2 जी स्पेक्ट्रम पर ट्राई के द्वारा बताई गयी बातों का विश्लेषण करने के लिए उनको कहा था जिसके जवाब मे 26 नवंबर 2007 को उन्होने याने चन्र्शेखर ने एक खत लिखा था मनमोहन सिंह को जिसमे साफ बताया था की प्रवेश फी ,ओर महेसुली भागीदारी के स्पेक्ट्रम फीस मे अगर बदलाव करेंगे तो ज्यादा मुनाफा होगा उस मे ये भी बताया गया था की 1658 करोड़ की प्रवेश फीस को बढ़ाकर 35000 करोड़ करने की बात लिखी हुई थी |"

                                 " पूर्व केबिनेट सचिव चन्द्रशेखर जून 2007 से जून 2011 तक केबिनेट सचिव रहे चुके है ओर 2 जी घोटाले पर जेपीसी 1998 से लेकर 2009 तक के स्पेक्ट्रम दाम एवं बिक्री की तपास कर रही है यहाँ गौर करे वित्त मंत्री प्रणब ने चिदम्बरम के खिलाफ प्रधानमंत्री कार्यालय को 25 मार्च 2011 के दिन एक नोट भेजी थी जिसमे साफ लिखा हुवा था की अगर चिदम्बरम चाहते तो ये घोटाला रोक सकते थे |"


रुकिए भाइयो ये भी पढ़िये 

भगतसिंह का नाम लिया तो कॉंग्रेस आपके घर ATS भेजेगी 
::::

:::

::

1 comment:

Stop Terrorism and be a human

Note: Only a member of this blog may post a comment.