:

Wednesday, October 26, 2011

ये रोकेट किसका है ? तिहाड़ से आया रॉकेट :व्यंग

" ये महेंगाई का रोकेट था | "प्रणव मुखर्जी ने मनमोहन सिंह को धमाके के साथ आकाश में जाते हुवे रोकेट को दिखाकर कहा तो शरद पवार जोर जोर से हसने लगे और कहा " प्रणव ..तेरे रोकेट में दम नहीं है ..जो आसमान में जाकर धमाका करता है ..अब देख ...ये ....|"कहेकर शरद पवार ने अपने झोले में से कुछ निकाला ..मग़र वो इतनी छोटी चीज थी की पता ही नहीं चलता था की क्या है ..शरद पवार ने पास आते आते कहा " अब देख प्रणव ..क्या होता है | " कहेकर वो मुस्कुराने लगे तो प्रणव बोले " हा हा हा ..मेरे रोकेट में पता है ना कितनी ताकत होती है ..जब भी मेरा रोकेट छूटता है तो देश भर में बच्चो से लेकर बूढ़े भी चिल्लाने लगते है |".." प्रणव सब्र करो मैंने देखा तुम्हारा धमाका अब मेरी बारी है ...|"कहेकर उसने छोटी सी चीज वही पर जलादी ....सु सु सु फूस सुस और एक धमाका हुवा " धड़ाम "...उस धमाके की गूंज इतनी थी की मनमोहन का सिंहासन भी हिल गया और मनमोहन ने आवाज़ लगाई " प्रणव ...ओ प्रणव ..कहा गए तुम ?".. " मै यहाँ हु " मनमोहन ने देखा तो ...प्रणव की हालात किसी कोयले की खान में काम करते मजदूर के जैसी हो गई थी ..मुहं काला हो गया था धोती जगह जगह पर फट गई थी ..कपडे सफ़ेद में से काले हो गए थे ..चश्मे का एक कांच गायब था ..तभी राहुल बाबा वहां पर आये |"

"सिक्युरिटी ..मैंने साफ़ साफ़ कहा था की किसी भी भीख मंगे को अन्दर ना आने देना ..इस को क्यु अन्दर आने दिया है ..बाहर निकालो इस भीखमंगे को |"..." बाबा ..मै आपका प्रणव हु ..मग़र पहलेइस शरद पवार से पुछो आखिर वो क्या चीज थी ..जो दिखाई नहीं दे रही थी मग़र धमाका बहुत बड़ा था |"...जैसे ही राहुल बाबा ने शरद की और देखा " राहुल बाबा ..ये रोकेट दिखाकर कहे रहा था की देखा मेरा रोकेट ..इसका रोकेट सभी को दिखाई देता ही ..मग़र मै जब भी कुछ जलाता हु तो किसी को कुछ पता नहीं चलता है की आखिर हुवा क्या ?..पता है प्रणव ये क्या था ? ..ये "अनाज बोम्ब" था ..जो भारत में फैली गरीबी की तरह दिखाई नहीं देता है ..मग़र जब भी धमाका होता है तो प्रधान मंत्री की कुर्सी तक हिल जाती है ..और प्रणव जैसे भीखमंगे बन जाते है | तभी पटाखों का एक बड़ा सा ट्रक के टायर से भी बड़ा रोल दूर से आते दिखाई दिया |"

" अब ये क्या है ? " मनमोहन सिंह बोले .."जो भी पता चल जायेगा |" कपिल सिबल ने कहा और मिलिटरी के रात्त में भी साफ़ दिखाई देनेवाले दूरबीन से देखने लगे की ये आया कहाँ से ? अचानक वो चिल्लाये " अबे ये कोई मोटा आदमी कई दूर खड़ा है हाथ में क्रेकर लेकर ..ये क्या ये भी अपने चिदंबरम की तरह लुंगी में ही है .. तेरी इस ने पटके के रोल को जलादिया ..आवाज़ आने लगी थी " थोऊस ..तहस ..फट फूट ..धम्दाम .ढूदूम ..अचानक रोकेट उसी दिशा में से आनेलगे ..यहाँ सब के सब की हालात पतली हो गई थी भागने का रास्ता सिक्युरिटी ने बंद कर दिया था ..अब भागे तो कहाँ भागे ..सबके कपडे भी जल रहे थे इतनी तेजी से रोकेट दूसरी और से बरसा रहे थे ..थोड़ी देर के बाद शांति हो गई ..मनमोहन ने आवाज़ लगाई " राहुल बाबा ..आप कहाँ हो ?"..मग़र जैसे ही वो खड़े हुवे उनका पैर पानी में पड़ा..."बाबा आप कहाँ हो ?"..मै यहाँ हु ..आवाज़ जहाँ से आई उस दिशा में वो आगे बढे तो आवाज़ एक बरेल में से आ रही थी शायद बाबा पानी के बरेल के अन्दर छुपे हुवे थे ...|"

" तभी ये तबाही मचानेवाला वो आदमी नजदीक आया और गरजकर बोला "कैसा रहा मेरा अंदाज़ ..ये तो कुछ भी नहीं है ..और मै ये सब करता भी नहीं मग़र क्या करू ..आप सब को मेरी बेटी कनिमोजी की कुछ फ़िक्र ही नहीं है ..आप सब तो इस चिदंबरम को बचाने के चक्कर में है मग़र मेरी बेटी की जमानत भी नहीं करवाते है ...याद रहे ...राजा ने इतनी दौलत स्विस बैंक में रखी है की मै चाहू तो ऐसे धमाके बरसो तक कर सकता हु और आप सबको बर्बाद कर सकता हु ..प्रणव तेरे महेंगाई का रोकेट देशवासियों को रुला सकता है और शरद तेरा बोम्ब प्रणव को और मनमोहन को हिला सकता है ...मग़र मेरे एक छोटे से धमाके से आप सबहिल जाओगे ..आज का तो सिर्फ सेम्पल था ..धमाका अभी बाकी है |तभी एक रोकेट दूर से आते दिखाई दिया जो तिहाड़ जेल की तरफ से आ रहा था|"

" तिहाड़ जेल की तरफ से आनेवाले रोकेट ने आते ही अपना कमाल दिखा दिया और प्रधान मंत्री की कुर्सी के नीचे ऐसा धमाका किया ..की प्रधान मंत्री कई दूर जाकर गिरे ..और अपने हाथ फैलाकर वो कुछ ढूंढ़ रहे थे " ..क्या ढूंढ़ रहे हो ?..." अपना चस्मा ..मुझे बिना चश्मे के कुछ दिखाई नहीं देता है ...|" ..." तभी वेटर के रूप में खड़े पप्पु ने कहा " वैसे भी तुजे कहाँ दिखाई देता था ...आप गूंगे भी हो और अंधे भी और अन्धो को चश्मे की जरूरत नहीं होती है | "


हसना सेहत के लिए अच्छा होता है ..इस ब्लॉग को पढनेवाले मेरे सभी दोस्तों को दीपावली की तहे दिल से शुभकामनाये ...आपको और आपके परिवार को आनेवाला नव वर्ष मंगलमय और प्रगतिमय रहे ...और भगवन करे की आनेवाले वर्ष में " महेंगाई कम हो जाये ...| "..." २६ और ३२ रुपये के अमीरों मजे करो और सदैव खुश रहो ..और हाँ उस लुंगी वाले से कहेना की जल्द ही कनिमोजी भी बाहर आएगी ...क्यु की अमरसिंह भी आ गया है ..जो भी इस सरकार को नुकसान पहुंचाएगा उसको जेल से बाहर ये सरकार जरूर निकालेगी ...तो भला कानी कैसे रहे सकती है अन्दर ...| "

" आप सब ने मुझे और इस ब्लॉग को बहुत ही प्यार दिया है ..कही भी कभी भी मुझसे कोई भी गलती हुई हो और मैंने आपका दिल दुखाया हो तो मुझे माफ़ करना दोस्तों ॥|"

हैप्पी दीपावली :)

7 comments:

  1. :)))

    हैप्पी दीवाली, हंसते हंसाते रहो, यूँ ही जीवन भर खिलखिलाते रहो।

    ReplyDelete
  2. हँसी से सराबोर करता बहुत बढ़िया व्यंग्य...

    ReplyDelete
  3. .. आपको दीपर्व की शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  4. सटीक व्यंग्य।
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  5. आपको गोवर्धन अथवा अन्नकूट पर्व की हार्दिक मंगल कामनाएं,

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर!
    दीपावली, गोवर्धनपूजा और भातृदूज की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  7. दीप पर्व की बधाई...

    ReplyDelete

आओ रायता फैलाते है

Note: Only a member of this blog may post a comment.