:

Friday, May 20, 2011

" कलमाड़ी की गाड़ी ..ढेंन टे न न { विडियो }"

" भारत देश के महान भ्रस्टाचारी और जूता खाउ ..होनहार नेता कलमाड़ी की गाड़ी को और उनकी रफ़्तार को आप खुद ही देख लो .. ये जूते खाने के बाद भी मुस्कुराते ही रहते है ..जैसे बोर्डर पर कोई इन्हों ने पराक्रम किया हो.. भाई आखिर नेता का काम ही सदा मुस्कुराते रहेना ही होता है ..रोती तो जनता है  .... | "

*  कलमाड़ी की महेनत पर मुस्कुराये नहीं

                   " इस विडियो को देखकर कृपया आप मत मुस्कुराना ..भाई नेता है हमारे,, कितनी महेनत से इन्होने देश को करोडो रुपयों का चुना जो लगाया है ...इनकी भारतवासियों को करोडो का चुना लगाने में जो रात और दिन की महेनत हुई है उसे ध्यान में रखकर सभी भारतवासियों से नम्र बिनती है की इस विडियो को देखकर मुस्कराए नहीं ....| "



              तहे दिल से सुक्रिया bigtimeplayer09 जो आप ने ये सच्चाई भरा विडियो दिखाया ,,,सुक्रिया दोस्त


7 comments:

  1. अविनाश वाचस्पति अन्नाभाई @ facebook ...
    तो क्‍या रोयें, सिर धुनें, हम तो हंसेंगे तभी तो ये भीफसंगे। अगली बार इन्‍हें क्‍या इनाम दिया जाए। पहले तो इन्‍हें छोड़ दिया जाए फिर ....

    ReplyDelete
  2. क्यों नहीं ऐसे लूट के खेल को सदा के लिए बंद कर दिया जाय जिस खेल के पीछे पूरे देश को शर्मिंदा होना परा और समाज का खून चूसा गया कुत्ते,कमीने गद्दार भ्रष्ट मंत्रियों के द्वारा...शिला दीक्षित का मुख्यमंत्री के पद पर इतने बरे लूट के बाद भी बने रहना इस देश में सत्य,न्याय व ईमानदारी पूरी तरह ख़त्म हो जाने का सबूत है...इस गेम की सरकारी जाँच एजेंसी की जगह अगर इमानदार सामाजिक कार्यकर्ताओं तथा पत्रकारों को जाँच रिपोर्ट का जिम्मा सर्वोच्च न्यायलय सौप दे तो शीला दीक्षित को जरूर फांसी से कम की सजा नहीं होगी...शर्मनाक अवस्था है देश की राजधानी में लूटेरे व शर्मनाक भ्रष्टाचारी मुख्यमंत्री के पद पर बैठी है...

    ReplyDelete
  3. sahi kaha sir .. is desh me se saty ..nyay.. aur imandari khatm ho jane ke saboot hai ..aur hamare liye ye sharm nak hai ki aaj hamare hi chune huve neta sirf bhrastachar me mante hai ..

    ReplyDelete
  4. कलमाड़ी ने जो कारनामा किया है उसके लिए पुरे देश को भुगतना पड़ रहा है! हम सब को शर्मिंदा होना पड़ा जो कलमाड़ी ने कर दिखाया! ऐसे खेल का क्या काम जहाँ इस तरह का लूट और बेईमानी हो! ईमानदारी का तो जैसे ज़माना ही चला गया!
    सच्चाई को आपने शानदार रूप से प्रस्तुत किया है !

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया है... बस सजा हो तो मामला बने... वरना सब कुछ मिट्टी..

    ReplyDelete
  6. बढ़िया प्रस्तुति है.
    बहुत तगड़ा गोलमाल हुआ.
    कमाल की मुस्कराहट है.बेहयापन की भी हद होती है
    पोस्ट के बारे में मेल करने के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईये. आपका स्वागत है.

    ReplyDelete

आओ रायता फैलाते है

Note: Only a member of this blog may post a comment.