:

Friday, May 6, 2011

" अश्लील जगह पर महालक्ष्मी जी की तस्वीर .. विरोध करो इस बात का |



" हिंदु देवी देवता का अपमान न जाने कब बंद होगा ? "

                        " पुरे विश्व में लगातार हो रहा है हिंदु देवी देवता का अपमान .और इस अपमान को लोग आर्ट का नाम दे रहे है  मै कहेता हु की अगर  "कुरआन शरीफ " का जब एक पन्ना भी जलाया जाता है तो पूरी यूनिवेर्सिटी में दंगा फसाद शुरू हो जाता है और अगर कोई अल्लाह के नाम पर सिर्फ ख़राब टिप्पणी करता है तो भी उसका कडा विरोध इस देश में होता है और होना भी चाहिए मगर जब हिंदु देवी देवता के कोई नंगे चित्र बनता है ..तो कोई जैसा आप चित्र में देख रहे है वैसी हरकते करता है तो उसे आर्ट ..कलाकारी का नाम दिया जाता है | "

                      " ऑस्ट्रेलिया में संपन्न हुवे एक फैशन शो में आप देख रहे है किस तरह हिंदु देवी "श्री महालक्ष्मी जी" का अपमान किया है ..क्या आप ये देख सकते है और सहे सकते है ? ...या फिर कोई बुद्धिजीवी कलाकार इस में भी कलाकारी देख रहा है ... अगर देख रहा है और इस हरकत को कलाकारी का नमूना कहे रहा है तो "श्री महालक्ष्मी" की जगह खुद का फोटो लगा ले ..क्यों की इसके पहले भी जब मैंने एक पोस्ट लिखी थी " यमराज को हराने का सशत्र मार्केट में उपलब्ध " तब ऐसे ही किसी बुद्धि जीवी ने मुझे कहा था की ये तो कलाकारी है ..इस पर ऐतराज नहीं लेना चाहिए | "

 * क्या हम बुजदिल है ? ... क्या हम अपने देवी देवता का अपमान सहे सकते है ? 

         " जिसे हम " माँ " कहते है जिसे हम "माँ शक्ति" कहते है .. क्या उस माँ का अपमान आपकी नजर के सामने हो रहा हो और आपका खामोश रहेना उचित है ..अगर आज नहीं हम विरोध करेंगे तो ये अपने आप को कलाकार कहनेवाले लोग हमारी सगी माँ का चित्र भी इस तरह से लगायेंगे ..अरे कोई " जीजस " का चित्र नंगा बनाओ और लगाओ ..फिर देखो आपके साथ दुनिया क्या व्यव्हार करती है और हम है ..अपनी श्री महालक्ष्मी माँ को कोई ऐसी जगह लगता है जिसे अश्लील कहेते है फिर भी हम चुपचाप बैठे है और अपनी माँ को तमाशा बनते देख रहे है .. |"

               " दुनिया में कोई भी धर्म ऐसा सही नहीं सकेगा ..क्यों की वे बुजदिल नहीं है मगर भारत के वासी सहते है ..लन्दन में कुरान का अपमान हुवा तो पादरी तक को नहीं छोड़ा था हमारे मुस्लिम भैयों ने क्यों की मुस्लिम भाई सही थे किसी धर्म का मजाक या धर्मं के साथ ऐसी हरकत नहीं होनी चाहिए ..आप इस फोटो को देखो .. किस तरह से उड़ाया है मजाक ... | "

           " सिडनी में गुरुवार को ये प्रदशन हुवा था जिसमे ये ड्रेस फैशन डिजाइनर " लीसा ब्लू " ने ये ड्रेस बनाया था ..आप भी कर सकते है इसका विरोध बस आपको ये पेज लाइक करके ... फेसबुक के " लीसा " के पेज पर अपना गुस्सा व्यक्त करना है 

लीसा ब्लू  :  http://www.facebook.com/pages/Lisa-Blue/172763257850   

              इस लीसा का संपर्क आप यहाँ कर सकते है :   admin@lisablue.com.au 
              इस की वेब साईट है  : www.lisablue.com.au 

    आपको इस लिसा की पूरी जानकारी यहाँ मिल जाएगी : 
             
  

                                : क्या आप इस का विरोध करेंगे ..अगर आप सच्चे धर्म प्रेमी है तो जरूर इस लिसा का विरोध करेंगे ...फेसबुक पर और उसको मेल करके ..मैंने तो मेल करदिया है अब बारी आपकी है |

                
                                                   

40 comments:

  1. अब वक्त आ गया है कि इन कुकृत्यों का मुंह तोड जवाब दिया जाना चाहिए ...और भारत सरकार को भी अब अपनी किन्नरी आदत को छोडकर बाहर आना चाहिए । सर्वथा निंदनीय कृत्य है

    ReplyDelete
  2. mazaal hai jo koi diggi ya aur koi gujraat ya modi virodhi neta is par bhi kuchh bolen.bolenge to videshi noton ki bahar ruk jayegi.afsos ki hum hindu hai aur alpsamkhyak hote to aag lag jati abhi taq aur congress aur rjd sp aur bahut si partiyan humare samarthan me khadi hoti

    ReplyDelete
  3. ajay bhai aapka kahena e dum uchit hai hamare neta ko ab kuch bolna chahiye aur khasker janta ko jiske AASTHAOAN ke saath ho raha hai khilwad

    ReplyDelete
  4. anil sir aapne bilkul sahi kaha hai ye haramkhor hamare neta kuch karenge nahi ..hume hi leesa ke page ko like karke ..dandanit jawab dena chahiye ..taki fir kabhi koi hamari MAA ko aise badnam na kare aur saraam majak na banaye

    ReplyDelete
  5. ये सब साले फेशन शो आयोजित करने वाले दिमाग से पैदल और ज्यादातर नसेरी व कामी लोग होते हैं...ये साले पैसे के लिए अपने मां बहन को बेच देते हैं सरे आम तो इनके लिए देवी देवता क्या मायने रखते हैं...? इस मुद्दे तो ज्यादा तूल नहीं देना ही ठीक रहेगा एक पागल और विक्षिप्त व्यक्ति की काली करतूत मानकर...

    ReplyDelete
  6. maine aapki post padhi nahin hai

    sirf foto dekh kar kah raha hoon.....

    laahnat hai is chhokri par !

    ReplyDelete
  7. बहुत ही बुरी स्थिति है। सारी कलाकारी हिन्दू धर्म के साथ ही दिखाई जाती है।

    ReplyDelete
  8. ye mudda sadharan nahi sir pahle bhi hamare saath bahut kuch ho gaya hai ..aaj bhi ho raha hai ..kyu hum chod de aise logoan ko ..jab koi kuraan ke baare me kuch anapsanap bolta hai to desh me bhuchaal aa jata hai kyu ki musalmaan bhai jante hai dharm ki raksha karna

    " mai to kaheta hu ki kisi bhi dharm ki ninda karna aur vo bhi istarha aur use sahena gunah hai ,virodh hona hi chahiye "

    ReplyDelete
  9. albela ji namastey bahut dino baad aapko dekhker accha laga .

    aapne bilkul sahi kaha hai " lanat is chokari per aur is dress ko nbananewali leesa per "

    ReplyDelete
  10. lokendra .. sahi kaha aapne saari kalakari hindu devi devata per hi dikhayi jati hai kyu ki hum virodh nahi karte hume virodh karna hi chahiye

    ReplyDelete
  11. aadarneeya, main abhi ahmadabaad kavi sammelan ke liye nikal raha tha isliye padh nahin paya lekin .ek baat hai,,,,jab tak aap aur hum jaise log is adharm aur paap ko khatm nahin karenge, ye3 hame yon hi sharmsaar karta rahega ...

    ekjut hone ki zaroorat hai aur hum honge......jai hind !

    ReplyDelete
  12. इन हरामीयों को कौन समझाए

    ReplyDelete
  13. " albela ji aapne to hume aadarniy kahekar sharminda kar diya ..aur aapka kahena bilkul sahi hai ki jab tak hum ek jut nahi honge .. aur adharm aur paap ka khatma .. bahut hi accha vichar aur umda comment .. "

    hum jaroor hinge ek jut ..jai hind sir ..jai hind

    ReplyDelete
  14. girish sir ..namastey
    " albela ji ne bilkul sahi kaha hai hume ek jut hona hi chahiye ..arey in logoan ko hum sab milker samja sakte hai "

    jaise facebook per inka page like karke ..is tasvir per jordaar comment de kar

    ReplyDelete
  15. @honesty project democracy

    ये ऐसे दफा करने वाली बात नहीं है ये बात है दुनिया भर मे फैले हुए १३५ करोड से भी ज्यादा भारतियों की और उनके सम्मान की.
    ध्यान दीजियेगा मैंने भारतीय कहा है हिंदू नहीं क्योंकि हर सच्चा भारतीय किसी ना किसी तरह से लक्ष्मी माँ का सम्मान करता ही है और कुछ कहेंगे की मुस्लिम नहीं करते तो दुनिया भर के मुसलमानों का तो पता नहीं लेकिन भारत का कोई भी सच्चा मुसलमान भी कभी भी किसी हिंदू भगवान की तस्वीर पर पैर रख कर आगे जाने की हिम्मत नहीं करता. कभी किसी मंदिर की तरफ मूह कर के गलती से कोई मुस्लिम भाई थूक भी रहा होता है तो मैंने उसे थूक को भी गटकते देखा है और वो डर के नहीं सम्मान के कारण करता है ऐसा.

    और हमारे देश मे इन देवियों को माता कहते हैं बेटियाँ कहते हैं बहुए कहते हैं बहने कहते हैं आप बताइए भला हम हमारी माँ बहनों के अपमान पर कैसे चुप रह जाएँ.
    पत्थर की मूरत आर कागज पर छपी तस्वीर को हम छोड़ दे लेकिन भला अपने परिवार की इन शक्तियों का अपमान कैसे होने दे जो हमारी ताकत है, हमारा सम्मान है, हमारा स्वाभिमान है, हमारी जान है, हमारी जननी है, हमारी पालन करनी है,
    हम उन्हें माता कहते हैं
    जो ज्ञान दायिनी है सरस्वती है,
    जो अन्न दायिनि अन्नपूर्णा है,
    जो शक्ति दायिनी दुर्गा है
    जो वैभव दायिनी लक्ष्मी है

    किसी और के घर का क्या कहूँ मेरे घर मे ही
    मेरे दादा जी उनकी माँ को सरस्वती का रूप कहते थे ,
    मेरी दादी को लक्ष्मी का रूप कहते थे
    मेरी माँ को अन्नपूर्णा का रूप कहते थे
    मेरी बहन को उन्होंने शक्ति का रूप कहा था
    उसी परम्परा को आगे बढ़ाते हुए मेरे पिता जी ने
    मेरी पत्नी को दुर्गा का रूप कहा था

    आप बताओ क्यूं हमारा खून ना खोले....क्यों उस नालायक फैशन डिजाइनर को हम माफ कर दे .... क्यों इस मामले को तूल ना दे ..... ये मात्र एक देवी के अपमान का नहीं ये दुनिया भर के भारतियों के अपमान का विषय है


    और ये सब मै धर्म या मजहब की की आड मे धर्मान्ध हो कर नहीं कह रहा हूँ मै सब को बता दूं की मै कही धर्म के ठेकेदारों के निशाने पर पहले ही हूँ मेरी विचार धारा के कारण जो उन सब के खिलाफ है

    और ये सब इन गोरी चमड़ी वाले लोगो की चाल है जो हमें नीचा दिखा कर हमें हतोसाहित करना चाहते हैं ....

    @अजय भैया आपसे एक ही प्रार्थना है

    हमारी नपुंसक सरकार को किन्नर कह कर आप किन्नरों का अपमान मत करिये..... मै किन्नरों के बारे मे एक लेख मे काफी बुरा लिख चूका हूँ और थोडा सा अच्छा भी .... मैंने आज के किन्नरों को गुंडा कहा था उसमे और हमारी मानसिकता को नपुंसक .....लेकिन मै आप को पूरे दावे के साथ कहता हूँ अगर आप सिर्फ ४ किन्नर इस फैशन डिजाइनर के ऊपर छोड़ देंगे ना तो ये तो क्या इस जैसे गन्दी मानसिकता वाले इंसान फैशन डिजाइनिंग छोड़ देंगे ... ये हमारे देश के किन्नरों की ताकत है .... हमारे देश के किन्नर शिखंडी के वंशज है, एक योद्धा के वंशज आप सरकार की उनसे तुलना करके इनका अपमान मत करिये यही प्रार्थना है

    ReplyDelete
  16. mai kundan " bahut hi shandaar aur samj bhari comment ..behatarin aur sahi trike se aapne aapki baat rakhi hai kaafi acche example ke saaath .. "

    thanx alot BHAI

    ReplyDelete
  17. बेहद शर्मनाक इन कुत्तों का विरोध करने के लिए हम तो तयार हैं !

    ReplyDelete
  18. darshan sir ye sharmnak ghatana hai magar hume iska virodh karke us fashion designer ko sabak shikhana hi chahiye

    ReplyDelete
  19. i dont know why this international people dont understand religious feelings of other communities. This had not happened first time, in past it happended severval time. Now it time to unite in India to protest this. Now we will not tolreate it..it is engouh..this is time to all Indian to unite & take this issue to U.N & force them to make sitrict law against this..this is insult of every Indian..JAGO INDIA JAGO.

    ReplyDelete
  20. jain ji .. aapki her baat se sahemat hai hum is per ek law ka hona jaroori hai taki aise log hamari bhavnao ke saath khilwad bandh kare

    ReplyDelete
  21. sanjay sir ... hume virodh karna hi chahiye ..agar hum sacche dil se mata MAHALAXMI JI ko maa kahte hai

    ReplyDelete
  22. बहुत शर्मनाक और कुत्सिक मानसिकता की प्रतीक है ये तस्वीर हम भी इसका विरोध करते हैं। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  23. शर्मनाक ... बेहद शर्मनाक .... धर्मनिरपेक्ष का मुखौटा लगाए ये सरकार और बी जी पी वाले भी कुछ नही कहेने ऐसे कुकृत्यों पर ... पर हर हिन्दुस्तानी ऐसी बातों को शर्मनाक कहेगा ... ज़रूर विरोध दर्ज कराना चाहोये हर हिन्दुस्तानी को ....

    ReplyDelete
  24. ब्लॉग जगत में पहली बार एक ऐसा सामुदायिक ब्लॉग जो भारत के स्वाभिमान और हिन्दू स्वाभिमान को संकल्पित है, जो देशभक्त मुसलमानों का सम्मान करता है, पर बाबर और लादेन द्वारा रचित इस्लाम की हिंसा का खुलकर विरोध करता है. साथ ही धर्मनिरपेक्षता के नाम पर कायरता दिखाने वाले हिन्दुओ का भी विरोध करता है.
    आप भी बन सकते इस ब्लॉग के लेखक बस आपके अन्दर सच लिखने का हौसला होना चाहिए.
    समय मिले तो इस ब्लॉग को देखकर अपने विचार अवश्य दे
    .
    जानिए क्या है धर्मनिरपेक्षता
    हल्ला बोल के नियम व् शर्तें

    ReplyDelete
  25. kute h ye log jo asi chege bante h , or hamre des ke rajneta to sare bike hue h> yah mahalaxmi ji ki jagah unki bahu betiya bhi hoti to kuch nahi bolte , sab hinjade h

    ReplyDelete
  26. ये बेहद शर्मनाक घटना है कि हमारे देश के देवी देवताओं का इस तरह से अपमान किया जा रहा है! हम सबको मिलकर इसका विरोध करना चाहिए! महालक्ष्मी देवी की हम पूजा करते हैं और दीजाईनर इस तरह के कपड़े बनाकर मॉडल को पहना रहे हैं जिसे हम बिल्कुल बर्दाश्त नहीं कर सकते !

    ReplyDelete
  27. हिन्दुओं को किसने रोका है भाई। मल्लिका शेरावत को जीसस वाली चड्डी पहनाकर चलवा दो रैंप पर और देखो मजा।

    ReplyDelete
  28. चलो इतने सारे ब्लॉगर हैं, इनमें से एक भी फोटो वगैरह के साफ्ट्वेयर पर गन्दी हिन्दू माडलों की चड्डी ब्रा में जीसस कट पेस्ट कर दीजिये और चढ़ा दीजिये नेट पर। ना चढ़ जाये पश्चिम को बुखार तो इत्ते की बात।

    ReplyDelete
  29. घोर निंदनीय कृत्य है ये...

    ReplyDelete
  30. hindu ka khoon ab paani ho gayaa hai ..jab fesbook mai ganesh ji ki sund se sex karte dikhaye jaane ki post maine laagayee,,to 2-4 logon ke alawa kisi ne virodh nahi kiya ...phir bhi mai khilafat ki jang me shaamil hun

    ReplyDelete
  31. vojis bhagwan ko manti hogi wo bhi use maaf nahi karega...kyon ki bhagwan sab ek hai...

    ReplyDelete
  32. अब वक्त आ गया है कि इन कुकृत्यों का मुंह तोड जवाब दिया जाना चाहिए .

    ReplyDelete
  33. " mithilesh , sahi kaha aapne mai aapko ek link bhejunga aap khud hi dekh le ki kis taraha hamare devi devtaoan ka ho raha hai apman

    ReplyDelete
  34. paisa kamane ke or bhee tarike hai .......!

    ReplyDelete
  35. घोर निंदनीय...

    ReplyDelete
  36. maa laxmi ka apmaan hum bhartiy bhi piche nahi hai, deewali per hum log laxmi bum phodete hai,aur vo kagaj hamre pav ke niche aata hai,
    yeh band hona chahiye.
    aap ka sahyog jaroori hai.

    ReplyDelete
  37. यह असह्य है... हमारे संयम की पराकाष्ठा है... हम इसका विरोध करते हैं..

    ReplyDelete

आओ रायता फैलाते है

Note: Only a member of this blog may post a comment.