:

Monday, June 29, 2009

रेपिस्ट है या दुल्हेराजा ?



सूरत के बेशरम .....


"ना पछतावा है चहरे पर , डर है कानून का ..कानून के रखवालोने हमको सजाया है ,इम्पोर्टेड टी-शर्ट ,पेंट और क्लीं शेव के साथ निकली है सवारी हमारी | सायद इनको डर नही है कानून का क्योंकि कानून के रखवालो के बेटे जो है , क्या कहेंगे हम इन्हे "बिगडे हुवे सहजादे " ? क्या आपको दिख रहा है कोई डर इनके चेहरे पर ? "

" इम्पोर्टेड गाडिया ,मुहमांगी पॉकेट मनी का ये रहा नतीजा साथ में था पिताजी का पॉवर ,खैर छोड़ो भी मगर क्या इनकी हैवानियत का भोग बननेवाली मासूम बच्ची को न्याय मिलेगा ? ....या फिर से एक बार दोहराना पड़ेगा की कानून अँधा होता है ? क्या कानून की देवी अपनी आँखों की पट्टी दूर कर के न्याय देगी मासूम बच्ची को ? "

" क्या कहता है आपका दिल क्या न्याय मिलेगा ? या फिर से ये पॉवर वाले अपना करिश्मा दिखायेंगे ? क्यों इन अपराधियों को क्लीन शेव , इम्पोर्टेड जींस के साथ पेश कर रहे है कानून के रखवाले ? क्यो ज्यादा रिमांड मंजूर नही करते है

1 comment:

  1. Aise logon ko sare aam faansee par chadaa denaa chaahiye..........Sharm ki baat hai

    ReplyDelete

आओ रायता फैलाते है

Note: Only a member of this blog may post a comment.