:

Friday, April 2, 2010

महेरबानी करके मेरी मदद करो |

"गर्मी के मौसम में ,आज मै हैरान हु ..... परेशां हु ,दूर तलक जाना पड़ता है जिन्दगी की तलाश में .................सायद किसीको मेरे दर्द की फ़िक्र नहीं है ..वरना आज इस कदर लाचार नहीं होना पड़ता |"

"देखो मेरे दोस्त भी तड़प रहे है ..लोग मुझे चिड़ियाँ रानी कहते है मगर आज ये चिड़ियाँ रानी आपसे भीख मांग रही है तो सिर्फ इस बात की " के जिसे आप लोग जिन्दगी समजते है वो हमारी भी जिन्दगी है |"भला कौन रहे सकता है पानी के बिना ..गर्मी के मौसम में |"

" मै चिड़ियाँ रानी आप सब इंसानों को सच्चे दिल से प्राथना करती हु की महेरबानी करके हो सके तो हमारे लिए अपने पर या घर के सामने पैड पर छोटे से बर्तन में पानी रखना ..भगवान आपको सुखी रखे ...ये वादा रहा मै चिड़िया रानी आपको कभी परेशां नहीं करूंगी या चोट नहीं पहुँचाउंगी ...बस एक छोटा बर्तन पानी से भरा रखना हमे पानी भी कितना चाहिए ...हम पर दया करो ...कुदरत ने हमे पंख दी है हाथ नहीं दिए अगर हाथ दिए रहते तो हम अपने पानी का बंदोबस्त खुद करते ..हमारी विवशता को पहेचानो और हमारी मदद करो ...यही मेरी, यानी आपकी चिड़ियाँ रानी की प्राथना है आप सब इंसानों से .......|"
" ये मै इस लिए कहे रही हु आप सब इंसानों से क्यों की " सुना है की, आज भी इंसानों में इंसानियत बाकी है |"


आपकी प्यारी ,

चिड़ियाँरानी



12 comments:

  1. जरुर रखेंगे!!

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. nishchit hi jal hi jeewan hai...
    achha prayaas...
    mere blog par jarror aayein meri nayi kavita par tippani jaroor dein....

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छा प्रयास है .यक़ीनन मदद करनी चाहिए .

    ReplyDelete
  5. ji main to roz pakshiyon ko dana aur pani deti hun .....!!

    ReplyDelete
  6. Bshut achhaa prayaas hai aapka jaagrookta laane ka ...

    ReplyDelete
  7. इस सुन्दर सद्प्रयास हेतु आपका कोटि कोटि साधुवाद....

    ReplyDelete
  8. बहुत ही बढ़िया प्रयास है जो सराहनीय है! मुझे तो पक्षियों से बहुत लगाव है! मैं तो हमेशा पक्षियों को गौर से देखती हूँ खासकर चिड़िया जो सदैव दिखता है! बहुत ही प्यारी तस्वीर लिया है आपने खासकर प्यास बुझाने के लिए नल पर बैठी पक्षी पानी पीने की कोशिश कर रही है वो तो अद्भुत लगा! पानी के बिना जीना तो असंभव है !

    ReplyDelete
  9. Nice one. We in our building keep two big pot full of waters.

    ReplyDelete
  10. " kumarendra sir, kya aapke paas koi aisa tarika hai jis se aam aadmi tigers ko bacha sake ? agar hai to fir kripaya apane blog per ek mast post likh de aap. ya fir muje bataye ..ab tiger ko bachane hum log jungle to nahi ja sakte ..magar haan ...."

    " chidiyoan ko ya koi bhi panchi ko hum ghar me baith ker aasani se bacha sakte hai ."

    " aapke pass tiger ko bachane ka koi aasan tarika ho to plz bataye ."
    " aapki tippany ke liye aapka sukriya "

    ----- eksacchai { AAWAZ }

    ReplyDelete
  11. घर जा कर पानी भी रखेंगे और खाने के लिए कुछ दाने भी... धन्यवाद आपका

    ReplyDelete

Stop Terrorism and be a human

Note: Only a member of this blog may post a comment.