:

Monday, September 21, 2009

" यादों का मंज़र | "

" किसीको गम ने मारा ,

किसीको तक़दीर ने मारा ,


हमको तेरी तस्वीर ने मारा |


क्या हमने पाया ,क्या तुमने पाया


ये खेल है ......


मिलके बिछड़ ने का ........


आओ इस वीराने में बैठकर


चंद बूंद गिराकर अश्को के


बुनले मंज़र यादों का |


किए थे कुछ हमने वादे ,


किए थे कुछ तुमने वादे ,


आओ बुनते है इन्ही से मंज़र यादो का |"



------ किसी की याद में { आवाज़ }




20 comments:

  1. भावपूर्ण अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब बेहतरीन

    ReplyDelete
  3. हमने किये थे वादे
    तुमने किये थे वादे
    आओ बनले मंजर
    इन्ही से यादों का
    क्या खूब कहा बधाई!

    ReplyDelete
  4. किसीको तक़दीर ने मारा ,

    हमको तेरी तस्वीर ने मारा |

    क्या हमने पाया ,क्या तुमने पाया
    वाह क्या बात है भाई तस्वीर ने ही मार गिराया? क्या बात है । नही सिर्फ तस्वीर नहीं
    हमने किये थे वादे
    तुमने किये थे वादे
    आओ बनले मंजर
    इन्ही से यादों का
    इन सब ने मार गिराया। खैर ये तो हो गयी मज़ाक की बात मगर रचना बहुत अच्छी है ये पंकतियां बहुत अच्छी लगी
    चंद बूंद गिराकर अश्को के

    बुनले मंज़र यादों का | शुभकामनायें

    ReplyDelete
  5. aapki kavita main kisi ke dil ka dard he or ye kavita her love karne wale ke dil ko chu jayegi
    bahut achi he
    meri shubhakamna he aap ese hi likhte rahe

    ReplyDelete
  6. " aap sabhi ka swagat hai ...aur dhanyawad ki aapne hamara hosla badhaya "

    ----- eksacchai { AAWAZ }

    ReplyDelete
  7. वाह-वाह क्या बात है, लाजवाब रचना। आपकी हर एक पंक्ति दिल तक उतर रहीं हैं। आपके शब्दो का चयन बहुत ही बेहतरिन है। इस लाजवाब रचना के लिए बहुत-बहुत बधाई................

    ReplyDelete
  8. Inheen tane-banon se zindagee kee chaddar bunee jaatee hai!
    Behad samvedansheel rachna...!

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://lalitlekh.blogspot.com

    http://baagwaanee-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. kuch yadon ke manjar aise hi hote hain.........achchi rachna.

    ReplyDelete
  10. किए थे कुछ हमने वादे ,



    किए थे कुछ तुमने वादे ,



    आओ बुनते है इन्ही से मंज़र यादो का
    sundar rachana .

    ReplyDelete
  11. " meri " yadoan ka manzar " rachana ko sarahnewale aap sabhi ka mai aabhari hu ....aabhari hu ki aap sab yahan aaye aur aapki pyari si comment ke jariye mera hosla badhaya ...."

    " dhanyawad "

    ----- eksacchai { aawaz }

    ReplyDelete
  12. kafi dard hai aapki poem mai........nice one......

    ReplyDelete
  13. वाह बहुत बढ़िया लगा! बहुत ही ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने!

    ReplyDelete
  14. किए थे कुछ तुमने वादे ,
    आओ बुनते है इन्ही से मंज़र यादो का |"

    jee sir....... phir to hum yaadon ke manzar hi bunte hain....... sir........ yeh line mujhe bahut achchi lagi hai........ aaapne aisa likha ki khud ko iss kavita se jod raha hoon.......

    ReplyDelete
  15. "मुझको तेरी तस्वीर ने मारा है" बिलकुल नया प्रयोग

    कविता बहुत सुन्दर बन पड़ी है. पसंद आई.

    हार्दिक बधाई.

    चन्द्र मोहन गुप्त
    जयपुर
    www.cmgupta.blogspot.com

    ReplyDelete
  16. कम्बखत ये तस्वीर ....!!!

    ReplyDelete
  17. लाजवाब है आपकी यादों का मंजर ........... खूबसूरती से संजोया है आपने ...

    ReplyDelete
  18. " aap sabhi ka aabhar ."

    ----- eksacchai { AAWAZ }

    ReplyDelete

Stop Terrorism and be a human

Note: Only a member of this blog may post a comment.