:

Wednesday, September 9, 2009

" नकली नोटों की जाल में फशा है भारत ! "

" ये सच है दोस्तों की नकली नोटों की जाल में फश चुका है हमारा देश ....याने हम ,इसका जुरमाना हमे और तमाम भारतवासियो को देना पड़ेगा ,२८ अगस्त को जयपुर की एक बैंक में से लाखो नकली रुपये पकडे गए ..कुछ दिन पहले ही महारास्ट्र एंटी टेरेरीस्म स्कोड़ ने ९००००० रुपयों की कीमत की जो नकली नोट पकड़ी और साथ में पकड़े लोगो को ,वो सब नोट ९५ परसेंटेज असली नोट की निशानी के साथ मिलती हुई थी ...और पहेली बार मुंबई में इस के खिलाफ " अन्लोफुल एक्तिवितेस प्रिवेंसों एक्ट " का उपयोग हुवा था |"


" पाकिस्तान से आई हुई महिलाओ ने दिए थे ३३००००० रुपयों के नकली नोट लोगो को जो लोग निजामुदीन रेलवे स्टेशन ,डेल्ही से २५ जून २००७ को पकड़े गए थे ,जी हाँ दोस्तों जरा सोचो मामला कितना गंभीर है ? ऐसे ही जोधपुर रेलवे स्टेशन पर पकड़े गए थे "बेगम आज़ादी" और उनका बेटा "अज्दर" जिन्होंने चप्पल में छुपाये थे १९००००० के नकली नोट |"

" दोस्तों ऐसे जाने कितने रुपये होगे जो हमारे बिच है मगर हम लोग उसे पहेचान नही पा रहे की वो असली है या नकली | इतिहास गवाह है की नकली चलन की वजह से राजा महाराजा का राज भी डूब गया है ,जरा इतिहास में जान्ककर देखना ...."मोअर्य " साम्राज्य इसका गवाह है |हमारी पुलिश सब कुछ जानती है मगर कुछ करती नही अगर करती तो क्या मजाल है इन नापकियो की ...वो अपने देश में नकली नोट गुसा ही नही पाते , मगर इसे अपना नसीब संजो की बदकिस्मती की हमारे देश में सब कुछ चलता है बस रिश्वत देते रहो ...अपने देश में जो गुनाह हो रहे है उसके जिम्मेदार ९९ प्रतिशत ये पुलिश्वाले ही है |"


" राजस्थान बॉर्डर , गुजरात बॉर्डर ऐसे नापा की तत्वों के लिए फेवोरित है |इसमे मर रहा है " आम आदमी " याने हम |सायद सरकार है इस की जिम्मेदार क्यों की कोई ठोस कदम नही उठा रही है सरकार और हो रहा है सफल पाकिस्तान अपनी गन्दी मुराद में की चलो तोड़ दे भारत की आर्थिक स्थिति को ,मई तो कहेता हु की महेरबानी करके अपनी अपनी जेब देखो कही ये आप तक पहुँच गई हो ? ..... ये अगर ऐसा ही चलता रहा तो, बैंक तो क्या आपकी ...,मेरी ,.......हम सब की .....जेब में होगी एक ..एक नकली नोट |"


" क्या आप तैयार है इसके लिए ?..अगर नही तो सोचो की हम सब ब्लॉगर भाई मिलकर ऐसा क्या कर सकते है,जिस से हम लोगो को जागृत कर सके |आओ दोस्तों हाथ से हाथ मिलाये ये हमारे देश का सवाल है |"


----- दोस्तों अगली पोस्ट में हम आपके सामने रखेंगे की नकली चलन की वजह से कैसे टूटी थी राजा महाराजा की सल्तनत |


{ धन्यवाद गुजरात समाचार }





10 comments:

  1. आपको भाषायी शुद्धता का थोड़ा तो खयाल रखना ही चाहिये.

    ReplyDelete
  2. बहुत ही गंभीर मुद्दा है.
    हर भारतीय को चाहिए की वो इन नापाक इरादों केरे ख़ात्मे के लिए स्वस्फूर्त अभियान चलाएँ.
    - विजय

    ReplyDelete
  3. कल रायपुर में भी बंगलादेशी पकडाये नकली नोट के साथ . यह एक बहुत बड़ा षडयंत्र है . इसे क्षद्म युद्ध कहते हैं . जब आमने सामने नहीं लड़ सकते तो पीछे से वार करो

    ReplyDelete
  4. आपने सही मुद्दे को लेकर बड़े ही सुंदर ढंग से प्रस्तुत किया है! आजकल तो चारों और जालसाज़ी का काम होता है और इसी वजह से सभी को एतियात बरखनी पढ़ती है और आँखें खुली रखनी होती है ताकि हम मुश्किल में न पर जाए! नकली नोट बाज़ार में जिस तरह से फ़ैल रहे हैं हमें चौकन्या रहना पड़ेगा!

    ReplyDelete
  5. aapke nek iradon aur sarahniya koshishon ke liye badhai.

    ReplyDelete
  6. क्या कहें कुछ गद्दार अपने देश मे भी बैठे हैं इनका साथ देने जब तक हर नागरिक सतर्क नहीं होगा तब तक कुछ नहीं होगा पोलीस भी इनके साथ ही है जब हर कोई भ्रष्ट है तो कैसे होगा ये सब?बहुत चिन्ताजनक स्थिती बनी हुई है आभार सचेत करने के लिये।

    ReplyDelete
  7. हर बार की तरह एक बार और आपने एक ऐसे मुद्दे को रखा जो की हमारे समाज और देश से जुडी़ हुई है। अगर देखा जाये तो इसका सफल होने का सबसे बडा़ राज हमारे यहाँ के लोगो की मिलीभगत है। नहीं ऐसा होना मुश्किल होता।

    ReplyDelete
  8. " mere hosle ko buland karne ke liye aap sabka dil se sukriya ...ummid hai ki aap sab mere is kary me sahyog denge "

    dhanyawad,

    ----- eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    http://hindimasti4u.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. हमें आगाह करने के लिए आभार। सही कहा आपने हमें सतर्क तो रहना ही चाहिए। अगर हम इतना भी करें तो इस लडाई में हम देश के गद्दारों के नापाक इरादों को कामयाब होने से रोक सकते है ।

    ReplyDelete

आओ रायता फैलाते है

Note: Only a member of this blog may post a comment.