:

Thursday, July 4, 2013

हिन्दू सेना द्वारा राष्ट्रपती को इशरत जहाँ मामले मे लिखा खत पढ़िये

            " इशरत जहाँ " केस मे सीबीआई का गलत रुख कई लोगो को परेशान कर रहा है तो एक बार फिर सीबीआई साबित करने पर तुली हुई है की उससे ज्यादा सरकार का "वफादार तोता" कोई ओर हो ही नहीं सकता | "  
 
          " पहले सीबीआई से जनता डरती थी मगर अब सीबीआई का मतलब हो गया है लालची ,अरे कुछ लोग तो यहाँ तक कहते है की सीबीआई मे ओर किसी चौराहे पर खड़े आरटीओ मे कुछ फर्क नहीं है ....ओर जो फर्क है वो सिर्फ इतना है की एक महज 50 रुपये मे बिक जाता है दूसरा करोड़ो मे | "
 
        " आइये देखते है स सीबीआई के बारे मे हिन्दुसेना ने महामहिम प्रणब द को खत के जरिये क्या कहा है .... ये खत पढ़कर एक बात मै कहेना चाहूँगा की बहुत ही बढ़िया काम किया है विष्णु जी ने ओर ऐसा ही काम हम सबको करना चाहिए तभी जाकर बदलाव आ सकता है | "
 

पेज 2
पेज 3
अगर पढ़ने मे दिक्कत है तो बताए जरूर
 
                      " मै तो हृदय से विष्णु जी के साथ हु क्यू की बात यहाँ "सच्चाई" की हो रही है ....मगर आप ? क्या आप विष्णु जी के साथ है ? "
 
:::::
::::
 
 
 

8 comments:

  1. बहादुरों कुछ करो नहीं तो देश नहीं बचेगा ------!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा आपने

      Delete
  2. प्रशंसायोग्य कार्य !!

    ReplyDelete
  3. Yah prayas thoda der se hua hai ..kintu sahi disha mein hai . Mahamahim se Hindu paksh ki ummid nahin ki jaani chahiye..ve svayam Isaai Dharm ko dharan kar chuke hain. Haan ek maanav aur ek samajhdaar vyakti ke taur par unse ummid jarur hai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. केदारनाथ जी आप से सहेमत हु मै

      Delete
  4. इस सच्चाई का प्रचारक होना देश के रक्षकों और प्रहरियों के प्रति आदर और सम्मान प्रकट करना होगा।

    विष्णु जी की विवशता है कि वे देश की तीनों सेनाओं के प्रमुख से ये बात कहनी पड़ रही है।

    लेकिन फौज मौशाय की विवशता कौन जाने ... वे इस मसले में कुछ भी करने से रहे।

    भूतकाल का खाया-पीया वर्तमान और भविष्य पर बहुत प्रभावी रहता है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रतुल जी सही कहा आपने ....ऐसे प्रयास होने आज जरूरी है

      Delete
  5. chaand per thukane wale svayam ghrinit putalon men tabdil ho jayenge.bhautik swarth me apadmastak dube, kutte kitarah haddi chichodte aur apne hi muhn se nikalane wale khoon men maja lene wale atmaghatiyon ke karan aaj aise durdin dekhane pad rahe hain.lekin sanatan ka satya-surya asuri-abhisandhi ke badlon ko vidirna ker satvikta ko jiwan-dan dene atur hai.SATYAMEVJAYATE......

    ReplyDelete

Stop Terrorism and be a human

Note: Only a member of this blog may post a comment.