:

Friday, October 3, 2014

कभी पगडंडियों से होते हुए जाती थीं स्कूल, आज मिशन मंगल की टीम में


कोटा. कभी गांव की पगडंडियों से होते हुए स्कूल जाना पड़ता था। ढेरों दुश्वारियों का सामना करते हुए स्कूल की पढ़ाई पूरी की। मां-बाप के पास इतने पैसे नहीं थे कि टू-व्हीलर दिला सकें। लेकिन आज उनकी लाडली राजदीप कौर भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के सबसे बड़े अंतरिक्ष मिशन (मिशन मंगल) में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। उसे मंगल से आने वाली तस्वीरों की प्रॉसेसिंग की जिम्मेदारी सौंपी गई है। बूंदी के नैनवा की रहने वाली राजदीप को इसके लिए इसरो के अहमदाबाद सेंटर से बेंगलुरु बुलाया गया है। उसका सिलेक्शन 5 साल पहले इसरो में बतौर जूनियर साइंटिस्ट हुआ था।

उसने 8वीं और 10वीं की पढ़ाई नैनवां के देई के सरकारी स्कूल से की है। 12वीं नैनवां के सीनियर सेकंडरी स्कूल से की। इसके बाद राजदीप ने पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ से बीटेक किया, जहां गोल्ड मेडल मिला। खुशी से गदगद पिता गुरदीप ने बताया कि वह उस समय बीटेक के बैच में एकमात्र हिंदी मीडियम की स्टूडेंट थी।

संघर्ष कर पाया यह मुकाम

आसान नहीं थी राह- वर्तमान में भीलवाड़ा में व्यवसाय कर रहे गुरदीप ने बताया कि देई में 12वीं तक के स्कूल नहीं थे। ऐसे में राजदीप को रोज 13 किलोमीटर दूर जाना पड़ता था। जीप और अन्य गाड़ियों से वह किसी तरह स्कूल पहुंचती थी। उस समय पारिवारिक स्थिति ऐसी नहीं थी कि उसे टू-व्हीलर तक दिला पाते। राजदीप की मां हरविंदर कौर बताती है कि बचपन से ही वह विज्ञान को लेकर उत्साहित रहती थी। विज्ञान में रुचि के चलते ही उसने इतना संघर्ष किया।

एक प्रमोशन भी मिला
2009 में इसरो में बतौर जूनियर साइंटिस्ट ज्वाइन करने वाली राजदीप को एक प्रमोशन भी मिल चुका है। वर्तमान में उनका कैडर साइंटिस्ट-डी का है। यूजीसी के पूर्व चेयरमैन और जाने-माने वैज्ञानिक प्रो. यशपाल भी राजदीप से  काफी प्रभावित हैं। वे एक अवार्ड सेरेमनी में उसे सम्मानित भी कर  चुके हैं।

छोड़ चुकी है टीसीएस  की नौकरी| राजदीप की रिसर्च और डवलपमेंट में ही सबसे ज्यादा रुचि थी। इसी वजह से इसरो में सिलेक्शन होते ही उसने नोएडा में टाटा कंसल्टेंसी की नौकरी छोड़ दी।

प्रेरणा: आरटीयू कराएगा यूएवी कॉम्पटीशन

मंगलयान  की कामयाबी से प्रेरणा लेते हुए राजस्थान टेक्नीकल यूनिवर्सिटी प्रदेश में एयरो स्पेस टेक्नोलॉजी को बढ़ावा देने के लिए अनमैन्ड एयर व्हीकल (यूएवी) बनाने का कॉम्पटीशन कराएगी। आरटीयू  वीसी एनएस व्यास ने इसरो के चेयरमैन डॉ. के राधाकृ़ष्णन को बधाई पत्र भी भेजा है। व्यास ने बताया कि यूएवी की लागत 60 से 70 हजार रुपए होती है। शामिल होने वाले सभी यूएवी को उड़ाकर देखा जाएगा। श्रेष्ठ को यूनिवर्सिटी पुरस्कृत करेगी। महाराष्ट्र में यूएवी से खेतों में यूरिया आदि का छिड़काव किया जा रहा है। व्यास ने बताया कि कैंपस में सभी फैकल्टी मेंबर्स ने एक-दूसरे का मुंह मीठा कर मंगलयान  की कामयाबी का जश्न मनाया।

इसरो चेयरमैन को दी थी डी-लिट उपाधि
अक्टूबर-2010 में टेक्नीकल यूनिवर्सिटी ने दीक्षांत समारोह में इसरो चेयरमैन प्रो. राधाकृष्णन को डी-लिट (डॉक्टरेट ऑफ लिटरेटर) की उपाधि से नवाजा था। समारोह में अपने अनुभव शेयर करते हुए राधाकृष्णन ने बताया था कि 1990 में उन्होंने तीन महीने तक कोटा और बारां के आदिवासी क्षेत्रों में रिमोट सेंसिंग के संबंध में काम किया था।

 साभार : रबीन्द्र सिंह 


2 comments:

  1. नमस्कार !
    आपका ब्लॉग देखकर अच्छा लगा !
    मै आपके ब्लॉग को फॉलो कर रहा हूँ
    मेरा आपसे अनुरोध है की कृपया मेरे ब्लॉग पर आये और फॉलो करें और अपने सुझाव दे !

    ReplyDelete
    Replies
    1. मनोजभाई आपका ब्लॉग देखा बहुत ही शानदार और ज्ञानवर्धक है कुछ टेक्निकल प्रोबलेम की वजह से आपको फॉलो नहीं कर पा रहा हु मगर एकाद दीन मे प्रोब्लेम दूर होते ही फॉलो करूंगा

      Delete

Stop Terrorism and be a human

Note: Only a member of this blog may post a comment.