Tuesday, March 1, 2011

" फेसबुक के बादशाह और उनके स्टेटस - बक बक नामा |"


"फेसबुक के बादशाहों  का स्टेटस क्या कहेता है ? अरे काफी मजेदार है, जिनमे कही दर्द तो कही ख़ुशी ..तो कही ज्ञान भरा है कुछ स्टेटस पढकर लगता है की इनके पास से हंसी की फैक्ट्री है, जिनमे से सिर्फ हंसी का ही प्रोडकशन हो रहा हो,कोई भी दर्द को मामूली बना देते है और गम भुलाकर हसने को मजबूर कर देते है |"

               " आईये देखते है क्या कहते है ये बादशाह लोग |"

    " सबसे पहले आते है "जोगीरा बाबा " |ये हर दम "सा रा रा रा " ही बोलते है ,आज कल बहुत ही खुश है, अरे यार होली आ रही है ..इनसे आजकल मांगो वो मिलता है | आजकल उनके कंप्यूटर में एक ही गाना १०८ बार बज रहा है ,वही गाना यार " नदियाँ के पार " फिल्म का ..मैंने भी इनसे कुछ माँगा था ..बड़े दिलवाले है,मैंने कहा था न की जो भी मांगोगे मिल जाता है... मैंने कहा 
की मै आपके इस गाने के साथ और एक गाना भी बजाऊंगा फिल्म " शोले "का ..तो डांटकर बोले "अरे 
तुलशीभाई ,आप को तो मै मना कर ही देता मगर ..ये बसंती को मै मना नहीं कर सकता"..और मेरी बसंती अपना टाँगा लेकर निकल पड़ी है आजकल सिर्फ और सिर्फ "जोगीरा बाबा " का आशीर्वाद लेकर आप भी जाओ उनके दर्शन कर लो ...अरे मैंने उनका असली नाम बताया की नहीं ." अजय कुमार झा "उर्फे  
"बाबा जोगीरा " बोलो ........ सा रा रा रा | वो क्या कहते है देखो |"

• अजय कुमार झा



केकर है इश्टाईल रे जुलमी , केकर रे इश्माईल ,
और कौन है दुनु के जालिम नज़र से घाईल ...
जोगीरा सारारारारारा , जोगीरा सारारारारारारा ,
इश्टाईल रे इश्टाईल , इश्माईल रे इशमाईल ...

• अजय कुमार झा


लडकपन जाने को है , जवानी आने को है ,
जो तेरा प्रेम है सच्चा , जोगनिया मिलेगी बच्चा .
जोगीजी बाह जोगी जी , जोगी जी बाह जोगी जी ..
और कहते है चिपक के बैठो ....बोलो सा रा रा रा |"


इनको और अधिक पढ़ना हो तो  http://ajaykumarjha1973.blogspot.com/ 

    " इस लिंक पर जाना हाँ ...क्यों की इनके पास हँसाने का iso सर्टिफिकेट है |"

                           " अब देखते है "गौतम जी" के स्टेटस को , काफी दिलचस्प लिखा है इन्होने देखो और पढो उनको स्टेटस .. आप का भी इसे कॉपी करने का मन हो जायेगा जनाब |"

 • Gautam Rajrishi



एक मुद्दaत से हुए हैं वो हमारे यूँ तो चांद के साथ ही रहते हैं सितारे, यूँ तो तू नहीं तो न शिकायत कोई, सच कहता हूँ बिन तेरे वक़्त ये गुज़रे न गुज़ारे यूँ तो राह में संग चलूँ ये न गवारा उसको दूर रहकर वो करे ख़ूब इशारे यूँ तो नाम तेरा कभी आने न दिया होंठों पर हाँ, तेरे ज़िक्र से कुछ शेर सँवारे यूँ तो |"

                             " है न बढ़िया स्टेटस .........अब देखते है "विशाल तिवारी" जी का स्टेटस ..ये भी एक JOURNALIST  ही है ..मगर जुड़े हुवे है शिक्षण जगत से |"

• Vishal Tiwari



  शिक्षक वह होता है, जो कभी भी सही जवाब नहीं देता है, लेकिन हमेशा सही प्रश्न पूछता है।

                    " क्या है आपके पास इस स्टेटस का जवाब ? अगर आपको और भी इनको पढ़ना है तो
http://indiapolicyfoundation.com/ पर क्लीक करो |"

          अच्छा, "शेखर" की बारी है अब ..ये जिन्दा दिल इंसान की जिन्दा दिली देखो ..बहुत ही साफ़ साफ़ लिखनेवाला है ये लड़का ..देखो वो क्या कहेता है |"

 • Shekhar Suman



तुम को देखा तो नहीं है लेकिन
मेरी तन्हाई में
ये रंग-बिरंगे मंज़र
जो भी तस्वीर बनाते हैं
वह तुम जैसी है |"

                                       " इनको आप http://nayabasera.blogspot.com/  पर पढ़ सकते है |"

   " रेडिओ और आयपोड के जरिये जिंदगी को बखूबी पेश करनेवाली "श्रीमती शुषमा अगरवाल" ..न जाने क्यों मगर ये स्टेटस मुझे बहुत ही उम्दा लगा ..आप भी देखिये और पढ़िए इस स्टेटस को देखिये आईपोड और रेडिओ में फर्क क्या है ?"

• Sushma K K Agrawal



"जिन्दगी कोई आईपाड नहीं है जिसमें अपनी पसंद के हिसाब से गाने सैट हो जाएँ. बल्कि यह रेडियो की तरह है जिसमें हमें उसकी फ्रीक्वनसी के हिसाब से सामंजस्य बैठाना होता है|"

     " अब पढ़ते है "अंजुल "को ....... बहुत कुछ कहेता है इनका स्टेटस हम इंसानों को |".

• Anjule Elujna



इनसान की परिभाषा- ऐसा बुद्धिमान जीव जो पहले पेड़ों को काटता है , फिर उससे कागज बनाता है और उन्हीं कागजों पर लिखता है ' सेव द ट्री '- मधुर भंडारकर

      " और ये " श्रीमती प्रतिभा जी" की पोस्ट ..आंख खोल देती है ..इसे पढो तो जरा ....पूरी पोस्ट नहीं है मगर अंश है |"

 • प्रतिभा वाजपेयी   



महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराध


पिछले दिनों मैं कानपुर में थी। हफ्तों गुजर जाते थे और वहां के पेपर के मुखपृष्ठ पर कोई राष्ट्रीय समाचार नहीं आता था। सभी मुख्य समाचार अपराधों और खासकर महिला अपराधों से जुड़े होते थे। कई बार ऐसा होता था कि चाय पीते समय पेपर परे सरका देती क्योंकि समाचार पढ़कर और समाचार के ऊपर छपी फोटो देखकर मन क...

         " आप इन्हें पढ़ सकते है यहाँ http://pratibha-bhagwanbharose.blogspot.com/  पर ..इस को तो पढ़ना ही ...|"

        " आखिर में मुझे मिली एक कमेन्ट जो दी गयी है .......

श्याम कोरी 'उदय' ‎...



                         सच ! मुर्दों के शहर में, भूतों की हुकूमत है
                          न जीने की चिंता है, न मरने ठिकाना है !

              " चलो दोस्तों, अब मुझे बताओ की कैसी लगी ये मेरी पोस्ट ?...अगली बार आपको मिलेंगे और भी मजेदार स्टेटस ....तब तक आप तय करो की इन में से कौनसा स्टेटस अच्छा है |"

अच्छी पोस्ट लगी हो तो , हम कुछ कहे ..........

      " भैयाजी इश्माइल ....बोलो  " सा रा रा रा  "

            


" ऐसे ही मजेदार स्टेटस आपको कुछ कुछ दिनों के अंतराल में पढने को मिलेंगे ..और आप ही तय करना की कौन है फेसबुक का बादशाह तब तक के लिए अलविदा दोस्तों .....|"



11 comments:

  1. वाह! स्टेटस जिक्रा बढिया रहा।
    चलने दीजिए इसे होली तक :)

    ReplyDelete
  2. वाह...यह आईडिया अच्छा है....
    बहुत बहुत शुक्रिया....

    ReplyDelete
  3. अरे भिया हम फसबूकियों की कला बाजारी यहाँ काहें लिए जाहिर कर दिए ... देखिये कहीं कोई फ़तवा ना जारी कर दे धर्म और साहित्य के ठेकेदार... अरे हम फसबूक के बकबक मण्डली वाले हैं...शायद ही हमारी बात पे कोई ध्यान दे हालाँकि फसबूक पे केवल बक बक के लिए हम लोग नहीं लिखते केवल..लेकिन क्या करें हमारी बातें आती हैं ..बक बक के ही दायरे में....बरहाल शुक्रिया ..हम सभी के स्टेटस को इस लायक समझने के लिए...

    ReplyDelete
  4. aanand aa gaya padhakar ... bahut shandar blog hai aapka ...... Tulasi ji shubhkamanayen

    ReplyDelete
  5. कमाल का आइडिया है तुलसीभाई ...बहुत बढिया और दिलचस्प

    ReplyDelete
  6. ्कमाल की पोस्ट है…………क्या अलग अन्दाज़ है बहुत पसन्द आया….………जोगीरा सारारारारा…………बस इसी तरह लगे रहिये…………कभी तो हमारा नम्बर भी आयेगा…………हा हा हा

    ReplyDelete
  7. सच मे तुलसी जी फेसबुक इँसान की जिन्दगी ना सिर्फ सच्चाई बताता है बल्कि उसकी अंतर मन मे क्या चल रहा है ये भी र्दशाता है।

    ReplyDelete
  8. विविधता ही हिन्‍दी ब्‍लॉंगिंग और फेसबुकिंग है, महकाते रहो तुलसी के गुणों के माफिक।

    ReplyDelete

Stop Terrorism and be a human