:

Friday, October 15, 2010

सोनिया गाँधी की सभा के लिए हो रही है पठानी वसूली |"

      * कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी की सभा के लिए हो रही है पठानी वसूली |

      * महाराष्ट्र  के नागपुर में आयोजित एक पत्रकार परिषद् में बात करते दो कांग्रेसी नेता पकडे गए कैमरा में |"

      * मुख्यमंत्री के पास से २ करोड़ और मंत्री दल के पास से १० - १० लाख |

     * महाराष्ट्र के वर्धा में  १५तारीख , को आयोजित सोनिया की सभा के लिए लिए जा रहे है रुपये |

                                           "  चलो सेवाग्राम मंत्र तले वर्धा में आयोजित सोनिया की सभा को सफल बनाने के लिए हो रही है ये वसूली इस बात का जिक्र महाराष्ट्र के दो दिग्गज नेता जब आपस में बातों में तल्लीन थे तब वो भूल गए थे  की पत्रकारों को दिए गए माइक चालू है और वो सब उनकी बातचित सुन रहे है , और कर रहे है कैमरा में कैद  |"
                                     " कांग्रेस प्रदेसअध्यक्ष माणिकराव ठाकरे और पूर्व मंत्री सतीश चतुर्वेदी की बात हो रही थी की ११ कैबिनेट मंत्रीयों से  पहले ३० - ३० लाख रुपये लेनेवाले थे मग़र मंत्रीयों ने मना करने पर १० लाख तय हुवे है और मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण देंगे २ करोड़ रुपये उनकी ये बातचीत साफ़ तौर से विडियो में हो रही थी कैद और सब सुन रहे थे इन भ्रष्ट नेताओं का एक और खेल |"
                                      " ये वसूली हो रही थी सिर्फ और सिर्फ सोनिया गाँधी की सभा को कामयाब बनाने के लिए जहाँ १ करोड़ ५० लाख रुपये के कांग्रेस के झंडे लहरानेवाले है और इन झंडों का आर्डर भी दे दिया गया है  और बन भी गए है | "

                                 " क्या कोई इन नेताओं को पूछेगा की आप के पास इतने रुपये आये कहाँ से जबकि चुनाव के वक़्त आप अपनी प्रोपर्टी कम दिखा कर गरीब बन जाते हो और चुनाव के बाद ...... ? या फिर कांग्रेस पैसे दे कर सोनिया की सभा में लोगों को लानेवाली थी ?   "

            

6 comments:

  1. कौन पूछेगा......पूछे भी किससे और सुनेगा कौन?

    ReplyDelete
  2. सब गोलमाल है. नेता मतलब )(*ऽ%

    ReplyDelete
  3. इन्हें छोड़ कर बाकी सब पर क़ानून चलता है.
    - विजय

    ReplyDelete
  4. पूछते है तो बस आप और हम जैसे आम नागरिक और आम नागरिक की आवाज़ इन नेताओ तक नहीं पहुचती .....यही दुर्भाग्य की बात है !
    यहाँ भी पधारे
    हे माँ दुर्गे सकल सुखदाता

    ReplyDelete
  5. आओ जागरुक हो कर हम पुछे सब मिल कर पूछे, ना कि एक दुसरे का मुंह देखे.... जब तक हम जागरुक नही होते, जनता जागरुक नही होती यही होता रहेगा...

    ReplyDelete
  6. अब क्या कहें! सब गोलमाल है! हम सब देखते रहते हैं और कुछ कर नहीं पाते!

    ReplyDelete

आओ रायता फैलाते है

Note: Only a member of this blog may post a comment.