:

Thursday, November 12, 2009

" भारत देश की लिलामी चालू है ,क्या आपको बोली लगानी है ?"

" मै गुजराती ....मै मराठी ....मै पंजाबी ....मै यू .पी वाला ...मै फलाना ...मै ठिमका आज कल यही भाषा चारो और बोली जा रही है और भूल रहे है हम लोग की "हम हिन्दुस्तानी "है |चंद नेता लोगो ने क्या बोल दिया की हम लोग भूल गए की हम हिन्दुस्तानी है |हम लोगो को एक दुसरे पर विश्वास नही मगर नेता लोगो के भड़काऊ भाषण पर विश्वास है,कभी कोई नेता मजहब पर भाषण देकर लड़वाता है ,तो कभी कोई नेता तू मराठी ,तू कन्नड़ , तू पंजाबी कहकर लड़वाता है ...आख़िर इन बातो से होगा क्या ? शायद देश के टुकड़े ...जाने भी दो ..अरे जब नही समज रहे है हम इन नेता लोगो के इरादे तभी तो कहेलाता है की " मेरा भारत महान "|"




"हम भारत के रहनेवालों को आदत हो गई है की जितना हमे नेता लोग कहेंगे उतना ही हम सच मानते है फ़िर चाहे सच्चाई हम अपनी आँखों से क्यों देख रहे हो ..हमे तो अपनी आँखों पर भी विश्वास नही है |नेता कहते है की भारत ग्रोथ कर रहा है ..मगर किस बात का ग्रोथ .?..." रिश्वत खोरी का "? .. |"






"प्रांतवाद चला रहे नेता का कहेना क्या सही है ? जरा सोचियेगा ?और अगर सही है ...तो फ़िर उपर दिखाई गई तस्वीर आपको बहुत जल्द सच में परिवर्तित होते दिखाई देगी |मत मानना नेता लोगो का कहेना ये लोगो को सिर्फ़ कुर्शी दिखाई देती है हमारी समस्या नही ..दिखाई देती है उनको एशो आराम भरी जिन्दगी मगर भारत में बढती गरीबी नही | अनाप सनाप बोल कर ये लोग सस्ती पब्लिसिटी पाने की लालसा रखते है और हम लोग उनकी बातों को लेकर आपस में लडाई चालू कर देते है |"




" इन तस्वीरों को गौर से देखना ..ये तस्वीर नही बल्कि भारत की हकीकत है ..ऐसे नज़ारे आपको भी देखने को मिलेंगे भारत की हर सड़क पर ....और हमारी सरकार और हमारे नेता कहते है की गरीबी हटाव ....अब इन्हे क्या कहे हम गरीबी हटाव या गरीब हटाव |"




" अगर आपसे कोई ५० रुपये उधार लेकर नही लौटाता है, तो आप उसे बिच बाज़ार में रोककर पूछते है की वोह पैसे कब लौटायेगा मगर जब कोई नेता देश के याने हमारे ५०० करोड़ रुपये खा जाता है तो उसे कोई नही पूछता ?और कहते है की ऐसे मामलो के लिए कोर्ट है ,मगर कभी आपने सुना की कोई नेता को कोर्ट ने दोषी करार दिया हो ?"



" ये जो लास्ट तस्वीर देख रहे है वो तस्वीर है हमारे महान भारत के भविष्य की ,मै जानता हु की मेरी यह पोस्ट पढ़कर आप सब की क्या प्रतिक्रिया होगी ...कोई कहेगा की मैंने सही कहा है ..तो कोई कहेगा की मै ग़लत हु |कोई "वन्देमातरम "के ख़िलाफ़ जा रहा है ,तो कोई प्रांतवाद के चक्कर में पड़ा है ...और इन सभी का natija सायद यही होगा की मेरे प्यारे देश भारत ...हिंदुस्तान के टुकड़े |क्यों की हमे वही दीखता है ,जो नेता दिखाते है और वही सुनाई देता है जो नेता बोलते है ....यही सच्चाई है हमारे हिंदुस्तान की |"




" गाँधीजी और देश की खातिर जान देनेवाले तमाम लोगो ने " वन्देमातरम " कहकर अंग्रेजों को भगाया और आज के नेता लोगो ने " वन्देमातरम " पर विवाद खड़ा कर के देश को मानो हिंदू ...मुस्लिम के टुकडो में बाँट दिया और बाकी रह गया अब प्रांतवाद ने जन्म लिया एक नेता के मुख से |"




"मेरे भारत देश की लिलामी चालू हो गई है ,आपको बोली लगानी हो तो जाओ ..आप भी बोली लगा सकते है मगर पहले कोई चुनाव जीत कर आना क्यों की " मेरे प्रिय भारत की बोली सिर्फ़ और सिर्फ़ नेता ही लगा सकते है "|





--- thanx for photo's " google "


25 comments:

  1. sach hai, pata nahi abhi kitane hisse aur honge is desh ke...

    ReplyDelete
  2. आँख खोल कर देखिये.... गरीबी हट रही है....मधु कोडा जैसा भिखारी भी आज हज़ारों करोड में खेल रहा है... सुखराम जैसे कई सुख की नींद सो रहे हैं..... तो रोना क्या है भाई :(

    ReplyDelete
  3. स्तब्ध हूँ आपके लेख से । आपने जिस बेबाकी से अपनी बात कहीं वह लाजवाब रहा । बहुत ही उम्दा रचना लगी आपकी । बधाई

    ReplyDelete
  4. bahoot hi bebaak, spasht, karaara lekh ... krodh ko jaise kaagaz par utaar diya aapne ... kamaal ka likha hai ... sab sach likh hai ...

    ReplyDelete
  5. बहुत सही पोस्ट लगाई है आपने!
    यह खेल तो आजादी के बाद से ही
    हमारे देश में खेला जा रहा है।

    ReplyDelete
  6. bahut hi bebaak, kharaa aur acchcha laga yeh aalekh....




    badhai....

    ReplyDelete
  7. ये भस्मासुर पाँच साल के लिए हम ही चुनते हैं और फ़िर ये हमारे सर पर हाथ फ़ेरने मे ही अपनी पुरी ताकत लगा देते हैं।
    आपने सही बात कही है।

    ReplyDelete
  8. ये मुट्ठी भर लोगों को अब बताने का समय आ गया है ....चेत जाओ वरना तुम्हारी खैर नहीं

    ReplyDelete
  9. आजकल नेता की परिभाषा ही बदल गयी है ....पर हमें उनकी राजनीति को समझना चाहिए ...

    ReplyDelete
  10. bahut katu satya hai ye
    neta bane hi desh ko nilaam karne ke liye hai

    agar me bhi neta hota to sayad nilami me bhaag leta

    afsos !!!!!!! nahi

    sayad main khus kismat hoo ki kam se kam main iska hissa nahi hooo

    desh ke batware abhi baki hai
    kyoki abhi neta bahut baki hai
    jis din nata giri khatam
    samjho desh ka uddhaar ho jayega

    ReplyDelete
  11. बहुत ही बढ़िया और कमाल का लिखा है आपने! पता नहीं कब हमारे देश में ये खेल समाप्त होगा! इस लाजवाब और बेहतरीन पोस्ट के लिए बहुत बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  12. Ham barsonse bhool chuke hain, khudko kewal Hindustani kahna...soobon me bant gaye hain.."Hidi hain, watan hai Histostaan hamara..",bas yahee ek seekh seekhnee chahiye..aalekh bada achha hai..

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://kavitabyshama.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://baagwaanee-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    ReplyDelete
  13. हम पंजाबी ,मराठी बंगाली मद्रासी हैं
    कब कहना सीखोगे हम सब भारत वासी हैं
    अलगाव वाद की बात को जितना उछाला जायेगा उतनी ही देश के लिये घातक है। सब को मिलजुल कर रहने मे ही देश का हित है। फिर ये दुशम्न की चाल है कि हिन्दू मुस्लिम दोनो को भडकाया जाये और वो इसे सफल बनाने के लिये कुछ भी कर सकता है। बहुत अच्छा आलेख है शुभकामनायें

    ReplyDelete
  14. आज तो हिला कर रख दिया दोस्त.......ये दर्द आप का अपना नहीं है वल्कि करोडो भारत वासियों को भी है.हम सिर्फ सोचंते थे ...आपने उस सोच को इतने खुबसूरत शब्दों में पिरो कर पेश किया है.की में पुरे आलेख को एक सास में पढ़ गया ......सुंदर चित्रों से सजा ये आलेख मिल का पत्थर है..............
    आशा है आगे भी आप ऐसी ही पठनीय रचनाएं लिखते रहेंगे !

    ReplyDelete
  15. कमाल का लेखन है , सभी आपसे सहमत होंगे .. पर इसके बावजूद सही दिशा में प्रगति के लिए उठाने को कोई पहल नहीं हो रही है !!

    ReplyDelete
  16. तस्वीर बहुत कुछ बोल गईं... वाकई आपके लेख ने आंखे खोल दीं... नेता कौड़ियों में खेल रहे हैं.. और आज भी कई ऐसे लोग हैं... जो भूखे पेट सो रहे हैं... काश आपका लेख राज ठाकरे जैसे इंसान भी पढ़ते... तो कम से कम देशभक्ति की परिभाषा समझ जाते...

    ReplyDelete
  17. सोई हुई चेतना को जाग्रत करता लेख.
    लेकिन इन नेताओं की चेतना कब जागेगी , पता नहीं.
    इस साहसपूर्ण रचना के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  18. हकीकत से आँखें मिलाती आपकी रचना पसन्द आयी। हालात तो सचमुच दिन प्रतिदिन बिगड़ते जा रहे हैं।
    बस यही कह सकता हूँ कि -

    बिजलियाँ गिर रहीं घर पे न बिजली घर तलक आयी।
    बनाते घर हजारों जो उसी ने छत नहीं पायी।
    है कैसा दौर मँहगीं मुर्गियाँ हैं आदमी से अब,
    करे मेहनत उसी ने पेट भर रोटी नहीं खायी।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  19. गाँधीजी और देश की खातिर जान देनेवाले तमाम लोगो ने " वन्देमातरम " कहकर अंग्रेजों को भगाया और आज के नेता लोगो ने " वन्देमातरम " पर विवाद खड़ा कर के देश को मानो हिंदू ...मुस्लिम के टुकडो में बाँट दिया ....

    आवाज़ काफी बुलंद है और कलम में धार भी तेज ....अब असर देखना है ......!!

    ReplyDelete
  20. हम समझते तो सब है फ़िर भी क्यों बहकावे मे आ जाते हैं.
    बिल्कुल खरी बात कही है.

    ReplyDelete
  21. सही कहा आपने। भारत में मूलभूत समस्याओं की अनदेखी कर फालतू के काम ज़्यादा हो रहे है। औक राजनीति की तो हालत ही खराब है।

    ReplyDelete
  22. हर ओर मची है लूट। सब लूट रहे हैं। अच्छी पोस्ट।

    ReplyDelete
  23. ठीक कहा आपने, परन्तु प्रांतवाद की समस्या तभी दूर होगी जब लोग स्वयं पंजाबी, मराठी आदि के झगड़ों से ऊपर उठेंगे | प्रांतवाद को हम छोटी छोटी घटनाओं में देख सकते हैं | आज भी बहुत से परिवार ऐसे देखे जा सकते हैं जहाँ एक लड़के और लड़की के विवाह में केवल इसलिए अड़चन पड़ती है क्योंकि वे अलग अलग प्रान्तों से सम्बन्ध रखते हैं |

    ReplyDelete
  24. मित्रो कवि हरि औम पवार के ये शब्द आपके लेख को हौसला दे रहे हैं:---
    यहाँ शहिदों की पावन गाथाओं को अपमान मिला,
    डाकू ने खादी पहनी तो सन्सद में सम्मान मिला!!
    राजनीति में लौहपुरुष जैसा सरदार नहीं मिलता,
    लाल बहादूर जैसा कोई किरदार नहीं मिलता!!
    ऐरे-गेरे नत्थू-खैरे तन्त्री बनकर बैठे हैं,
    जिनको जेलों में होना था मन्त्री बनकर बैठे हैं!!

    आंख खुली तो पुरा भारत नाखूनों से त्रस्त मिला,
    जिसको जिम्मेदारी दी वो घर भरने में मस्त मिला!!
    क्या यही सपना देखा था भगत सिँह की फाँसी ने,
    जागो राजघाट के गान्धी तुम्हें जगाने आया हूं!!
    घायल भारत माता की तस्वीर दिखाने लाया हूं!!

    ReplyDelete

Stop Terrorism and be a human

Note: Only a member of this blog may post a comment.