:

Thursday, July 30, 2009

नाजुक कलाई जब उठाती है बन्दूक

"आतंकवाद" ये शब्द सुनकर बढ़ जाती है धड़कने ....ये सच है |आज कल यही शब्द ने पुरे विश्व को तंग करके रखा है ....."आतंकवाद "मानो कोई स्प्रिंग जैसा है ....जिसे जितना दबाना चाओगे उतने ही जोरसे उछालती है .....पुरा विश्व आतंकवाद को दबाना चाहता है मगर नतीजा क्या है ?...नतीजा हमारे सामने है दोस्तों ...येही की आतंकवाद बढ़ता ही जा रहा है .......|"


"महिला आत्मघाती दल "सक्रीय हो चुका है | तालिबान की जन्गलियत हम सब जानते है,छोटा सा बच्चा भी आज तालिबान को पहेचंता है ....तो सिर्फ़ और सिर्फ़ उसके फैलाये आतंकवाद से ही ...पाकिस्तान के खिलाफ "स्वातघाटी " में ज़ंग हारने के बाद तालिबान ने अखतियार किया एक नया रास्ता जो काफी भयानक है और वो है "महिला आत्मघाती दल" चौंक गए ना दोस्तों ....अब बढेगा पुरे विश्व का सिरदर्द .... क्यों की चुडिया पहनने वाले हाथो में अब रहेंगी बुरखे की आड़ में बन्दूक ........|"


"माना की महिला बोम्बर के किस्से नए नही है ....अरे इसका झटका तो हम भारतीय भुगत चुके है भाइयो .....छोड़ो भी मगर क्या विश्व की इस हालत के पीछे अमेरिका और पाकिस्तान जिम्मेदार नही है ?.....अरे ख़ुद परवेज़ मुसरफ ने कहा था की पाकिस्तान के एक मदरसा में "स्वात " और "वजीरिस्तान " की पठान महिला को आत्मघाती हमले करने की ट्रेनिंग दी गई थी |"


"क्या तालिबान का "महिला आत्मघाती दल "भारत के लिए चिंता का विषय नही है ? चिंता का विषय है सायद ....क्यों की पाकिस्तान में महिला आत्मघाती दल नाम की आग लग चुकी है तो भला भारत में आने से कितनी देर लगेगी ? ..हमारी सुरक्षा अधिकारियो को काफी सतर्क रहेना पड़ेगा ......नही तो फिरसे ....ताज ...गेटवे ऑफ़ इंडिया .....जैसा कांड हमारे न्यूज़ पेपर या फ़िर टी.वी पर देखना पड़ेगा ....देखनी पड़ेगी हमे हमारे अपनों की लाशें ...क्यों की आतंकवाद को धर्म नही होता है ....उनके बन्दूक से निकली गोली धर्म नही पूछती वो करती है तो सिर्फ़ छलनी सीना .....गोली उनकी होती है तो सीना मेरे हिंदू ,मुस्लिम ,सिक्ख भाई का रहता है ......आख़िर खोऊंगा तो मै अपना भाई ....बहेन....उनका क्या उन्होंने तो इस अधर्म को "जेहाद "नाम दे रखा है ...|


"माना की हमारी सुरक्षा एजेन्सी काफी मजबूत है ,होसियार है मगर जरासी भी भूल पुरे देश की नींद उडा सकती है ....क्या करे चुडिया पहननेवाली कलाई ने बन्दूक जो उठा ली है .....और वो भी बुरखे के पीछे ....दोस्तों ये तालिबान अजीब है ....आओ हम सब मिलकर दुवा करे की "हे इश्वर ,....अल्लाह ...मेरे देश को सलामत रखना ....|"


*****

8 comments:

  1. जब मर्दो ने किया बेबस तो तब नाजुक कलाईयो ने उठा ली बन्दुक । आभार

    ReplyDelete
  2. dear brother dhiraj,

    "aapki comments ke liya hum aapke aabhari hai "

    dhanyawad ,

    ***** "eksacchai " {AAWAZ }

    ReplyDelete
  3. नाज़ुक कलाई बन्दूक नही , न्याय के लिए हाथ उठा रही है ...गुहार लगा रही है ...यहाँ ..आपके हमारे सामने ...और अनसुना हो रहा है ..विनीता आमटे ...शहीद अशोक आमटे की वीर पत्नी ...उसे पाकिस्तान नही , हमारी न्यायव्यवस्था से शिकायत है ..हम सभी इतने आत्म केंद्रित हैं ,कि , ऐसी आवाज़ सुनतेही नही ?
    शाबाश, विनीता...तुम्हारी चूडी टूटी होगी..कलाई नही..कोई हो न हो मै साथ हूँ...हर पल..हर क़दम..

    ReplyDelete
  4. Kya 'sachhaai' is 'aawaaz' ko buland kar saktee hai? Vineeta kamte kee aawaaz ko?

    ReplyDelete
  5. क्षमा जी अपनी आवाज को अपने ब्लॉग के द्वारा लोगों तक पहुंचाइए श्रीमती काम्टे के बारे में

    ReplyDelete
  6. हमारी सेना ने भी इन्हें बन्दूक पकडा दी है

    ReplyDelete
  7. kshamaji,
    ' sacchai' her AAWAZ ko buland ker sakti hai agar aap sub ka saaath ho..muje detail bhejiyega mai aur meri team vinita ji ki AAWAZ jaroor buland karenge...."

    *****EKSACCHAI {AAWAZ}

    ReplyDelete
  8. बहुत चिन्ता जनक बात है अब तो राम ही राखा है

    ReplyDelete

आओ रायता फैलाते है

Note: Only a member of this blog may post a comment.