Monday, July 23, 2018

अमरनाथ पाखंड है : स्वामी अग्निवेश ( विडीओ )

पता नहीं इन लोगो ने वेद और पुराण पढ़े है या नहीं ? जो भगवे रंग के कपडे धारण करके अनाप सनाप बकते ही जा रहे है , और ये बात आज सच साबित हो रही है की भगवे रंग के पीछे कभी कभी शैतान भी छुपे होते है जो समाज और देश के लीये हानिकारक होते है ऐसे ही एक पाखंडी स्वामी की आज हम बात करने जा रहे है  स्वामी का नाम है स्वामी अग्निवेश

https://youtu.be/cYUW04rJoGU
स्वामी अग्निवेश एक धूर्त और पाखंडी है जिसे आज लगभग देश जान गया है , जो भगवे रंग के कपडे पहनकर हिन्दू धर्म पर लगातार हमले कर रहा है क्या उसे पता नहीं की हिन्दू धर्म दूसरे धर्मो की तरह नहीं है | हिंदू धर्म में दुसरो का सम्मान होता है और मूल में  वेद , स्वामी अग्निवेश ने कभी हिन्दू धर्म के बारे में सत्य बोला हो ये मुझे याद नहीं है , अब जिस तरह से वो हिन्दू धर्म के बारे में बोल  रहा है क्या उस तरह से कभी कथित स्वामी अग्निवेश ईसाई और इस्लाम के बारे मे ऐसा बोल सकता है ? 
https://youtu.be/cYUW04rJoGU

बाबा अमरनाथ , सबरीमाला , तिरुपति एक पाखण्ड है , ऐसा तथाकथीत पाखंडी अग्निवेश ने कहा था तो भाई  ईसाई धर्म में भी क्या पाखण्ड है ये बता फिर देखते है तेरे दम कितना है | ये हिन्दू स्वामी कम और इस्लामिक मौलाना ज्यादा दिखाई दे रहा है जो लोगो की आँख में धूल झोंकने के लिये भगवे रंग के कपडे पहनकर फिर रहा है | क्या कभी इसने वेद पढ़ा होगा ? जवाब यक़ीनन ही ना आएगा , ये अगर स्वामी है तो फिर झूठ और नफ़रत क्यों फैला रहा है ?
https://youtu.be/cYUW04rJoGU

* फतवा निकलता है या पिछवाड़ा टूटता है ?
अगर हिन्दू धर्म से इतनी ही नफ़रत है तो मुसलमान बन जा भाई , मगर वेद पुराण और हिन्दू धर्म के देवताओ को झूठ और पाखण्ड मत बता | अगर दम  है तो अल्लाह के बारे में बोलकर दिखाये फिर पता चलेगा की पहले फतवा निकलता है या पिछवाड़ा टूटता है ? 

विडीओ यहां देखे क्या कहा पाखंडी अग्निवेश ने 

https://youtu.be/cYUW04rJoGU

 

* तुलसीभाई पटेल

   https://eksacchai.blogspot.com 

   Youtube : enoxo multimedia

   Twitter : @eksacchai

    22 /07 /2018



भारत माता की जय
वंदेमातरम

1 comment:

  1. आपको कौन समझाये। इस प्रकार की पोस्ट लगाने से पहले विचार कर लिया करो कि आप क्या लिख रहे हो। सत्य सनातन वैदिक धर्म है। हिन्दू धर्म नहीं।

    ReplyDelete

Stop Terrorism and be a human