:

Tuesday, January 19, 2010

मरने के बाद " इ मेल बॉक्स " का क्या होता है ?????

" मृत्यु निश्चित है ,आज के इस इलेक्ट्रोनिक युग में सब के पास होता है एक " इ मेल " आई .डी मेरे पास भी है ,आपके पास भी है ....मगर कभी हम लोगो ने सोचा है ,की क्या होगा हमारे मृत्यु के बाद हमारे" इ मेल आई. डी" का ?...जब की पासवर्ड सिर्फ और सिर्फ हम ही जानते है कभी कभी इन्टरनेट पर " पैसे ट्रान्सफर "का पासवर्ड भी होता ही है ..जो आज कल आम बात है "

" मैंने मेरा पासवर्ड किसी को नहीं दिया है और मुझे कुछ हो गया तो .....जब की " इ मेल सर्विस "प्रोवाइड करनेवाली कंपनी अपनी " टर्म्स ऑफ़ सर्विस में "साफ़ तौर से लिखती है की आपका अकाउंट कोई भी परिस्थितियौं में ट्रान्सफर नहीं होगा और आपके वारिश के नाम पर भी ट्रान्सफर नहीं होगा ....ऐसे में क्या ?"

" याहू ने कहा है की अगर उसे मरनेवाले का " डेथ certificat " की कॉपी मील जाएगी तो वो ...मरनेवाले का " इ मेल आई डी बॉक्स " कैंसल करेगी और इ मेल बॉक्स में रही तमाम जानकारी का नाश कर देगी "

" और गुगल ने हाल ही में कहा है की अगर मरनेवाले के वारिश को ...मरनेवाले का इ मेल बॉक्स चेक करना है तो वो गुगल का संपर्क कर सकता है "

" याने इ मेल हो ,या ओरकुट हो , या फैश्बूक हो " डेथ सर्टीफीकैट "भेजने से हमारा सहयोग करेंगी और ईमेल बॉक्स या ..ओरकुट ,फैशबुक में रही तमाम जानकारी नष्ट करदी जाएगी ..........मगर हाँ सोसिअल नेट वोर्किंग साईंट पर ऐसी व्यवस्था नहीं है "

.........धन्यवाद् गुजरात समाचार



18 comments:

  1. रोचक जानकारी!
    प्रकाशित करने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  2. रोचक जानकारी!

    ReplyDelete
  3. वाह बहुत ही बढ़िया और रोचक जानकारी प्राप्त हुई आपके पोस्ट के दौरान! धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. bahut khoob tulsi bhai !

    bahut umda post !

    ReplyDelete
  5. जब रहे ही नहीं..तो क्या सोचें??

    ReplyDelete
  6. achchi jaankaari hai janaab .dhanyvaad

    ReplyDelete
  7. भाई उपर जाकर कम्प्यूटर इंटरनेट की सुविधा नहीं मिलेगी क्या ?

    प्रमोद ताम्बट
    www.vyangya.blog.co.in

    ReplyDelete
  8. बहुत महत्वपूर्ण जानकारी दी है .......... कहाँ थे इतने दिनो ..........

    ReplyDelete
  9. Baat to sahi kahi...par baat yah bhi hai ki email kisi ki bhi vyaktigat sampatti hotee hai,aur jab vyakti hi na hoga to fir vyagtigat sampark aur sampatti ka kya...

    ReplyDelete
  10. namskaar
    aapki rachna bahut badiya he ye kaho ki bahut bada satya he
    aap isi tarah acha acha likhte rahe or hum padte rahe
    bahut achhi rachana he...............

    amrata jain

    ReplyDelete
  11. अच्छी जानकारी है भाई
    हमने तो अभी इसके विषय मे सोचा ही नही था।

    चलिए जाने की वेला मे देखेंगे।
    क्या करना है? आभार

    ReplyDelete
  12. आह! मैंने इस बारे में कभी नहीं सोचा था.
    बेहतर है कि बैंक खाते की ही तरह either or survivor की तर्ज़ पर अपने इमेल अकांउट का पासवर्ड भी share किया जाए.

    ReplyDelete
  13. बहुत महत्वपूर्ण जानकारी दी है .......... कहाँ थे इतने दिनो ..........

    ReplyDelete
  14. Welcome Tulsi Bhaii ji...
    Bahut dinon baad sacchaii ki awaaz sunne mili.
    Yahi ham bhi soch rahe the ki hamari mout ke bad hamare blog ko koun sambhalega?

    ReplyDelete
  15. जय श्री राधेकृष्णा ... यात्रा शुभ और मंगलमय होगी .....लौटकर आंसर मिलेगा कैसा रहा टूर प्रोग्राम... क्या होता है ... फुल मेमोरी समेत कंप्यूटर लोगिन एंड पासवर्ड ....फिर एक नए अनोखे रूप में ......ज्यादा से ज्यादा पांच तब होगा जब सभी नेटवर्किंग साईट स्थित एकाउंट दुबारा ओपरेट होने लगेंगे ऐसा अवश्य संभव होगा ड्रीम प्रोजेक्ट ....... how can possible this ....कुछ नहीं इस समय उचित भी नहीं होगा ....लाइक ऐ सस्पेंस मूवी , आसमान से भी ऊंची उड़ान भरकर वापस धरती पर लौटना रोमांचकारी

    ReplyDelete

आओ रायता फैलाते है

Note: Only a member of this blog may post a comment.