:

Sunday, June 20, 2010

"इसकी आँखों पर से पट्टी उतारनी है ..कोशिश तो करो |"

" है कोई, माई का लाल जो इसकी आँखों पर से ये पट्टी हटा सके ताकि ये देख सके की "न्याय" क्या होता है , क्या गुजरती है उन लोगो पर जो हादसे का शिकार होते है ..ये भला ,ये क्या जाने ...अंधी है फिर भी न्याय की देवी कहेलाती है ..काश ......ये देख सकती तो भोपालवासियों पर यु अन्याय नहीं होता ..सायद ये भी नेता लोगो की तरह बिक गयी है ..जो सिर्फ सौदा करना जानते है ..सायद इसके तराजू में भी किसीने पैसा फेंका होगा "
" कोई कहेगा की न्याय मिल रहा है तो वो गलत है क्यों की ? यहाँ पर फांसी की सजा सुनाई तो जाती है मग़र उसका अमल नहीं होता है और वो अपराधी को हमारा महेमान बनाकर हमारे सर पर बैठाया जाता है ,ये है हमारा कानून ..सायद हमारे राष्ट्रपति के पास वक़्त नहीं है ..मै कहेता हु की क्यों ऐसे खूखार अपराधी के लिए दया दिखाई जाये ? क्यों ? "
" छोड़ो भी हमारा कानून ही कुछ ऐसा है ...इस में बदलाव जरूरी है मग़र करते नहीं है, क्यों की बदलाव करने से फसेंगे तो नेता ही न "
" हम" अंडरसन" का बाल भी बांका नहीं कर सकते और नहीं हमारा कानून क्यों की "अंडरसन "को भागनेवाले भी यही नेता लोग ही थे ..जो "हमारे और देश के कानून" के रखवाले बनकर बैठे है देखते जाओ ये मामला भी दब जायेगा या फिर तारीख पे तारीख ......"
" अब बताओ, क्या इसकी { कानून } आँख से पट्टी उतरने का समय आगया है या नहीं ? सोच के बताना ..आज भोपाल वासियों पर अन्याय हुवा है , कल मुज पे ...या आप पर भी हो सकता है "

20 comments:

  1. अब इसकी परिभाषा है कि ये आँख बंद करके न्याय करती है ताकि सच्चाई को देख न सके. सुन कर न्याय देने की नई परिपाटी शुरू है........
    क्या करियेगा?
    माई के लाल तो आज़ादी दिलाने में ही फाँसी पर लटक गए थे.
    जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

    ReplyDelete
  2. " bilkul ssahi kaha aapne अब इसकी परिभाषा है कि ये आँख बंद करके न्याय करती है ताकि सच्चाई को देख न सके. सुन कर न्याय देने की नई परिपाटी शुरू है........"

    ReplyDelete
  3. kadva sach..bina koshish ke kuch nahi hoga...

    ReplyDelete
  4. सही कहा...पट्टी उतारना जरुरी हो गया है!

    ReplyDelete
  5. असल में अंग्रेजों के कानून की ही नकल करके इस देश का कानून बनाया गया है इसलिए राजा यहाँ सजा नहीं पाते बस प्रजा को ही सजा मिलती है। बेचारी न्‍याय की देवी इसलिए ही पट्टी बांधकर खडी है।

    ReplyDelete
  6. .... प्रसंशनीय पोस्ट!!!!

    ReplyDelete
  7. भोपाल पर फैसले के बाद न्याय की देवी की आंखो से पट्टी उतारना बेहद ज़रूरी हो गया है दोस्त

    ReplyDelete
  8. Jabtak bhrasht neta jinda hain hamaare samaaj mein ... ye patti koi nahi utaar sakta ...

    ReplyDelete
  9. इसमें कोई शक नहीं कि भोपाल गैस त्रासदी भोपाल के इतिहास का एक ऐसा पन्‍ना है जिसे सब अपने अपने नजरिये से पढ़ते हैं। जिन्‍होंने भुगता या भुगत रहे हैं उनके लिये कोई भी राशि पर्याप्‍त नहीं होगी। जहॉं तक मृतकों का प्रश्‍न है, उनकी टीस भले ही शेष हो लेकिन वो अपने परिवारों के लिये माइने खो चुके हैं। जो जीवित हैं उनके लिये 25 वर्ष बाद पुर्नवास और मुआवजा निरर्थक हो चुका है, हॉं स्‍वास्‍थ्‍य एक प्रश्‍न हो सकता है, समुचित इलाज की व्‍यवस्‍था एक प्रश्‍न हो सकती है। एंडरसन का क्‍या किया जाता है यह उनके लिये निरर्थक है। हॉं यह सब उनके लिये माइने रखता है जो इस पर जनभावनाओं को भुनाना चाहते हैं। कोई माने या न माने कानूनन एंडरसन पर केवल मुआवजे का दायित्‍व भर डाला जा सकता है, वह भी पूरी तरह से सिद्ध करना कठिन होगा। एंडरसन के विरुद्ध आपराधिक प्रकरण की स्थिति तो न तब बनती थी, न अब बनती है। फिर ये शोर सा मचा क्‍यूँ है? वक्‍त की जरूरत न तब आवेश थी, न अब है। सारे मामले को खुली सोच से देखना जरूरी है।

    ReplyDelete
  10. मुझे लगता है, कि पट्टी तो इसलिये बांधी गई होगी कि न्याय की देवी अपने और पराये के बीच भेदभावपूर्ण फ़ैसला न कर सके लेकिन अब इस पट्टी का उतरना बहुत ज़रूरी हो गया है.

    ReplyDelete
  11. न्याय की देवी की आंखो से पट्टी उतारना बेहद ज़रूरी हो गया है

    ReplyDelete
  12. बिल्‍कुल सही .. पर उतारे कौन .. एकता का ही तो अभाव है !!

    ReplyDelete
  13. " tahe dil se mai aap sabhi dostoan ka aabhari hu ...."

    ReplyDelete
  14. भेदभाव हीन न्याय की देवी की प्रतिमा में बदलाव
    शायद सम्भव नही दादा

    ReplyDelete
  15. पर आलेख का अपना ज़रिया है
    विचारणीय आलेख

    ReplyDelete
  16. achchhi bahut achchhi rachna ,jis waqt baandhi thi tab uddeshya bhed bhav na karna raha magar ab saboot ki mohtaaj rah gayi .utaar kar bhi kaya hoga ,juge to baigar patti ke hi hote hai .uttam .

    ReplyDelete
  17. dada bilkul satik chitran kiya hai aapne aajkal hamare kaanun ki ye hi ho khamiya paayee jaati hai ab sakab ka matter le lo itna kuchh kiya saari baaten clear uski suraksha par karodon rupey laga rahe hain balki aise jallad ko to maut se buri saja deni chahiye na ki mehman banakar khatirdari karni chahiye aapne achcha likha hai bas ek gujarish hai aapse ki aaka background black hai is par yellow white ya koi aur lite colour use kiya karo blue colour padhne me nahi aata hai

    ReplyDelete
  18. बहुत बढ़िया और बिल्कुल सही फ़रमाया है आपने! देखते हैं अब पट्टी कौन उतरता है!

    ReplyDelete
  19. सही कहा...पट्टी उतारना जरुरी हो गया है!

    ReplyDelete

आओ रायता फैलाते है

Note: Only a member of this blog may post a comment.