:

Thursday, September 27, 2012

मनमोहन,7721 की थाली और आरटीआई :पढ़िये दोस्तो

                     " 375 लोगो के पीछे प्रधानमंत्री मनमोहन ने उड़ाए 28,95,503 रुपये भाई ऐसा कैसा खाना था जो इतना महँगा था बड़ा कमाल का है प्रधानमंत्री इस देश का जो गरीबो को कहेता है 16 रुपये मे पोष्टिक आहार मिलता है और खुद 7721 रुपये की थाली का पोष्टिक आहार खाता है ...तुम 16 रुपये की थाली खाओ हम 7721 रुपयेवाली थाली खाते है सरकार की ये नीति भी पता चली एक आरटीआई से, क्या जमाना आ गया है जो सरकार जनता को सलाह देती है की खर्चा कम करो वो खुद... कहाँ 16 रुपये और कहाँ 7721 रुपये | "

* आखिर क्या था 7721 रुपये की थाली का रहस्य ? 
                                                       " वर्तमान यूपीए सरकार ने अपनी 3 वर्षगांठ पर अपने तमाम मंत्री ,संसद सभ्य को आमंत्रित किया हुवा था जिसमे कुल मिलाकर 375 लोग हुवे थे और ये पार्टी रखी गयी थी प्रधानमंत्री मनमोहन जी की ओर से उनके घर पर दिन था " मे 22 " ...सबसे चौंकनेवाली बात ये थी की ये पार्टी सरकार ने उस वक़्त रखी थी जब वो खुद कहे रही है की जनता को बिन जरूरी खर्चो पर कटोती करनी चाहिए मगर खुद 16 रुपये की बजाए 7721 रुपये खर्च करती है तब सवाल ये उठता है की क्या 16 रुपये की थाली पोष्टिक नहीं होती है ? "

* एक "आरटीआई" और बात खत्म
                                                        " रमेश वर्मा जो हिसार के रहनेवाले है उन्होने इस भोजन समारंभ के बारे मे एक "आरटीआई" लगाई थी और उसका जवाब जब प्रधानमंत्री कार्यालय से आया तो उसमे बताया गया था की इसका सारा खर्च विदेश मंत्रालय के अंतर्गत आनेवाली " गवर्नमेंट होस्पिटालिटी ऑर्गनाइज़ेशन और सीपीडब्ल्यूडी" ने मिलकर किया था और कूल खर्चा हुवा था " 28,95,530 रुपये " और उसका ब्योरा नीचे दिया हुवा है जो आप देख ले की किस तरहा हुवा खर्चा ? मगर उसके पहले आइये एक नजर करते है सरकार ने गरीबो को जो कहा है की 16 रुपये की पोष्टिक थाली कैसी होती है 
अगर इस थाली को खाने से जरूरी सभी पोष्टिकता मिलती है तो फिर 7721 की थाली क्यू भाई ? आखिर क्या था वो थाली मे तो आइये नजर करते है उस थाली मे भी जो इतनी महेंगी है 
ये रही प्रधानमंत्री मनमोहन की पार्टी मे रखी गयी थाली 

अब इसे देखकर आप भी सोचते होंगे की भाई वाह ! मजा आएगा मगर ये मजा ये लोग हमारे ही जेब से कर रहे है दोस्त आपने देखा की ये पैसा आया कहाँ से है तो " विदेश मंत्रालय " ...चलिये देखते है कहाँ कैसे हुवे खर्चे इस शानदार पार्टी मे 

खर्चा कूछ इस प्रकार हुवा था :
खाना फेंक दिया 228 थाली का
" देश को लूटा जा रहा है क्यू की जहां देश मे लोग भूखे मर रहे है वहाँ पर यहाँ इस पार्टी मे गौर करनेवाली बात ये थी की इस पार्टी मे खाना बनाया गया था 603 लोगो का और आए 375 लोग याने जो खाना फेंकना पड़ा वो था 228 थाली का

            " आप कहाँ है जनाब ...ये आपके देश मे हो रहा है ? और आपकी ही जेब से पैसा निकाला जा रहा है क्या 228 लोगो का खाना फेंकना या बर्बाद करना उचित है ? देश मे ऐसे न जाने कितने परिवार है जो आज भी भूखे सो रहे है और ये हरामखोर नेता खाना बर्बाद कर रहे है | "

गौर करे दोस्तो जिन गरीबो को 16 रुपयो की थाली की सूचना देती है सरकार की योजना आयोग कमिटी उसके प्रमुख होते है देश के "प्रधानमंत्री " जो खुद आज इतने गिरे हुवे बन गए है की उनको 16 रुपयो का खाना नजर मे नहीं आता है....सोचिए दोस्तो अगर ऐसा ही चलता रहा तो एक दिन देश बिक जाएगा
::::
:::

::::

::::


Wednesday, September 26, 2012

लव लेटर लिखना बंद करे सरकार : नरेंद्र मोदी

* माइल स्टोन बना स्माइल स्टोन 
                 " माइल स्टोन को स्माइल स्टोन" मे परिवर्तित करनेवाले नरेंद्र मोदी जी ने समय की रेत पर अपने विकास कार्यो की छाप बना दी और साबित कर दिया की जनता के दिल मे वही रहे सकता है जो जनता का सेवक बनकर उसके साथ सुख दुख बाँट सके ,जनता की तकलीफ समज सके, और झूठी अफवाए फैलनेवाले को जनता खुद ब खुद ही दंडित करती है ये आपने पिछले चुनावो मे भी देखा और आगे भी देखते ही रहेंगे क्यू की नरेंद्र मोदी जी ने बहुत पहले कहा था की " मै CM हु ...मगर CM का मतलब होता है COMMAN MEN "

* खतरो से नहीं डरते ,मुशकेल वक़्त मे जनता के साथ खडा रहेना कर्तव्य 
             " मुंबई पर जब हमला हुवा तब देश के तत्कालीन गृहमंत्री " शिंदे " कपड़े बदलने मे व्यस्त थे मगर गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी जी एक मात्र ऐसे नेता थे जो वहाँ गए जहां जाने से देश के सभी नेता डरते थे जी हाँ " ताज होटल " और वहाँ से उन्होने कहा था की " मुंबईवासियो आपके इस दर्द भरे समय मे गुजरात और गुजरात की जनता आपके साथ है |" दर असल ऐसा तो महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने कहेना चाहिए था मगर गुजरात का शेर मोदी मुंबईवासियों के दर्द भरे समय मे भी वहाँ पहुँच गया जहां केंद्र सरकार के कोई भी नेता नहीं आए थे | "

 * लव लेटर लिखना बंद करे भारत 
                " आपकी अदालत " इंडिया टीवी के इस प्रोग्राम मे जब नरेंद्र मोदी जी को लाया गया तब रजत शर्मा ने एक सवाल किया था की " पाकिस्तान बार बार हमला कर रहा है और हमारे देश के प्रधानमंत्री पाकिस्तान को चिट्ठी लिखकर शांति की अपील कर रहे है इस पर आपका क्या कहेना है ? " ...तब मित्रो गुजरात के इस शेर ने बिना हिचकिचाये कहा था की " भारत सरकार ये लव लेटर लिखना बंद कर दे और जो भाषा पाकिस्तान की समज मे आती है वही भाषा मे उसे जवाब दे|" ...दूसरा सवाल जब रजत शर्मा ने पूछा की आपको देशवासी "दिल्ली भेजना चाहते है प्रधानमंत्री के रूप मे तो फिर आप दिल्ली की ओर क्यू नहीं देखते है ? ...तब मोदी जी ने वो कहा था जो देश का कोई भी मुख्यमंत्री नहीं कहे सकता उन्होने शांति पूर्वक कहा " गुजरात के लोगो ने दिया हुवा ढेर सारा प्यार और उनके प्रति मेरे कर्तव्य को मै कैसे भूल सकु गुजरात की जनता ने मुझ पर विश्वास जताया है तो मेरा कर्तव्य है की वो सलामत रहे ,सुखी रहे मेरे लिए गुजरात ही मेरा दिल्ली है और वैसे भी दिल्ली की सरकार गुजरात की ओर देखती नहीं है तो भला मै क्यू दिल्ली की ओर देखू ".....ये है नरेंद्र मोदी का जलवा और ये है रहस्य इनकी सफलता का की जो आप पर विश्वास रखे उसे कभी दगा मत दो | "

* किसने क्या दिया ?
                " कॉंग्रेस ने देश मे मादेरना,तिवारी,संघवी,कांडा जैसे नेता देकर साबित कर दिया की उनकी पार्टी कैसी है देश मे कॉंग्रेस ने देश के युवा को अश्लीलता दी मगर नरेंद्र मोदी ने देश के युवा को " स्वामी विवेकानंद "का मार्ग दिया है और सायद यही फर्क है की देश के हर युवा का आइकॉन बने हुवे है नरेंद्र मोदी ,देश की बिकी हुई मीडिया चाहे कितना भी क्यू न दर्शाये की देश के युवा के आइकॉन है राहुल मगर सच्चाई ये है की युवा के आइकॉन है "नरेंद्र मोदी " ...ये मै ही नहीं मगर आप भी कहेंगे की ये सच है क्यू की शायद आप मुझसे भी बेहतर तरीके से जानते है आइकॉन का मतलब |"

* सितारे कहते है मोदी बनेंगे प्रधानमंत्री                
                   " नरेंद्र मोदी बनेंगे भारत के प्रधानमंत्री ...जी हाँ सितारे कहते है ...ये मै नहीं मगर बेजान दारुवाला समेत कई नामी लोग कहे रहे है,जिसकी भविष्यवाणी कभी फेल नहीं होती है वैसे "बेजान दारुवाला" ने कहा है की देश को अगर आर्थिक ,आंतरिक,और हर क्षेत्र मे तरक्की के रास्ते पर फिलहाल एक ही व्यक्ति ले जा सकता है और वो है "नरेंद्र मोदी" आगे जाकर उन्होने ये भी कहा था की " गुजरात की तरक्की इसका गवाह है " |"

                    " अमेरिका भी बहुत ही जल्द हटाएगा नरेंद्र मोदी पर से प्रतिबंध ऐसा सितारे कहे रहे है तो इसका मतलब ये हुवा की अमेरिका भी झुकेगा देश के इस सपूत के सामने आपको याद होगा एक दिन नरेंद्र मोदी ने कहा था की " मुझे अमेरिका की जरूरत नहीं है, मेरा अमेरिका मेरा गुजरात है |" और उन्होने करके भी दिखाया की गुजरात आज देश मे ही नहीं मगर दुनिया मे भी अव्वल कहेलाता है |"

इस ब्लॉग मे पढ़िये और भी  

बाप रे 25000 हजार करोड़ का मुनाफा तो घाटा कैसे ? 
 ::::

::::

::::

:::
 

Friday, September 21, 2012

बाप रे 25000 हजार करोड़ !

                      " अगर आपको इतना मुनाफा एक ही साल मे हो तो भला क्या आप कभी कहेंगे की आपको घाटा हो रहा है ?.......नहीं ना ? मगर हमारी कॉंग्रेस सरकार कहेती है की घाटा हो रहा है दर असल काँग्रेस सरकार अपने घोटाले के मुद्दे से लोगो का ध्यान हटाने के लिए ही इस्तेमाल कर रही है तेल के दाम, जैसे ही घोटाला लोगो के सामने आया वैसे सरकार ने बढ़ा दिये तेल के दाम और लोगो का ध्यान घोटाले के मुद्दे से हटकर तेल और महेंगाइ मे लग जाता है | "
                  
                  " महेंगाइ की जड़ याने तेल के दाम और कॉंग्रेस बार बार लोगो को एक ही बात कहेकर दाम बढ़ाती है और वो है तेल कंपनियो को घाटा हो रहा है मगर जब एक "आरटीआई " कॉंग्रेस सरकार की पोल खोलती है तब लोगो को पता चलता है की असलियत क्या है ? यहाँ घाटा नहीं बल्कि सन 2000 से लेकर आज तक तेल कंपनियोने जबर्दस्त मुनाफा ही बटोरा है | "

                    " काँग्रेस सरकार सच मे गरीबो को और इस देश की जनता को मूर्ख बना रही है "एम टेक " कर चुके विकास गेहलोत ने जब इस बारे मे एक "आरटीआई" के द्वारा जवाब मांगा तो जवाब काफी हैरत अंगेज़ आया की तेल कंपनियो ने कभी घाटा किया ही नहीं है बल्कि सन 2010-11 मे तो तेल कंपनिया 25 हजार करोड़ का मुनाफा कर चुकी है ,ओह ! फिर भी ये सरकार को ये मुनाफा नहीं नजर आता है और चिल्लाती है की घाटा हो रहा है |"

                     " अगर आपको भी यकीन न आए तो कभी बीएसई सेंसेक्स पर नजर रखिएगा और वार्षिक रिपोर्ट देखिएगा मामला साफ हो जाएगा और अगर आपको देखना ही है तो ये रहा एक चित्र






 अब अगर टोटल मारे तो पता चले की कितने का मुनाफा हुवा है और आपको कही भी इस मे नजर नहीं आएगा की नुकसान है और अगर ये चित्र भी आपको मामूली लगे तो ये देखिये जो "आरटीआई " के द्वारा प्राप्त हुवा है | "

अब आप खुद ही सभी कंपनियो के मुनाफे का टोटल मारिए जैसे सभी मे से 2010-11 को चुने .....या फिर और कोई कही आपको घाटा नजर आ रहा है क्या ? दर असल सरकार अपने ही घोटाले को दबाने के लिए घोटाला करने के बाद तुरंत ही तेल के दाम बढ़ा देती है जिस से लोगो का ध्यान घोटाले के मुद्दे से हटकर महेंगाइ मे लग जाए | "

                     " जागिए दोस्तो अब भी वक़्त है क्या आप ऐसी सरकार चाहते है जो हर वक़्त आपको बेवकूफ बनाती हो ? "

::::
:::
::    

Tuesday, September 18, 2012

मोदी का जलवा 95 % काँग्रेस होगी साफ :गुजरात जनमत

                 " मोदी का जलवा छाया है चारो तरफ ,मोदी जी का जलवा और गुजरात के लोगो के दिल मे रहा मोदी जी के प्रति रहा अटूट विश्वास आज फिर से एक बार दिखाई दिया याने गुजरात के 95 % लोगो ने मोदी जी के नेतृत्व मे विश्वास जताया है |"

                  " गुजरात लीजेंड" के ओपिनियन पोल मे पूछे गए सवालो से ये बात साफ होती है की 95 % लोग नरेंद्र मोदी जी के द्वारा हुवे गुजरात के विकास से संतुस्ट है और मोदी जी के साथ है और सबसे बड़ी बात ये है की सिर्फ विकास के ही प्रश्न नहीं पूछे गए थे इसमे मगर समाज मे घटित हर वो बात जिस बात मे नरेंद्र मोदी ने सहयोग दिया हो या नहीं दिया हो, बहुत सारे सवाल थे मगर जनता ने 95 % मोदी जी मे विश्वास दिलाया | "

                   " लगातार 5 साल से ये पोल चालू था तो सोचिए कितनी महेनत की होगी और जनता के दिल मे क्या चल रहा है उसे जानने की कोशिश की होगी ? इस पोल से ये बात साफ होती है की जनता झूठे वादे और भ्रष्टाचार को अब खत्म करना ही चाहती है और सच्चे विकास को ही महत्व देना चाहती है जो 95 % मे साफ दिखाई दे रहा है याने ये बात साफ है की बची हुई काँग्रेस का गुजरात से 95 % सफाया तय है  | "

देखो गुजरात :

साबरमती रिवर फ्रंट :



दुनिया की सबसे बड़ी प्रतिमा :
                                             " जब केंद्र की काँग्रेस सरकार "सरदार वल्लभभाई पटेल" को भूल रही है तब गुजरात मे नरेंद्र मोदी ने "सरदार वल्लभभाई पटेल" की दुनिया की सबसे विशाल प्रतिमा बनाने का तय किया जिसका काम भी चालू हो गया है जो 3 किलोमीटर दूर से भी आपको दिखाई देगी पेपर वर्क सम्पूर्ण हो चुका है और जगह पर काम चालू करने की तैयारीया चालू है और जैसा की सभी जानते है मोदी जी ने गुजरात की जनता को जीतने भी वादे किए है सभी सम्पूर्ण किए है तो ये भी प्रतिमा बनेगी ही ...इस बात मे कोई संदेह नहीं है |"



एशिया का सबसे बड़ा सोलार प्लांट :


रेगिस्तान कच्छ का बदलाव तो पूरी दुनिया ने देखा है

बिजली : गाँव हो शहर 24 घंटे रहेती है बिजली जहां ऐसा है गुजरात ,

             रोजगार की कमी नहीं ऐसा है गुजरात ,

             जहां कोई आतंकी हमले का भय नहीं ऐसा है गुजरात

                   " तो भला क्यू नहीं चाहेगा हर दिल गुजरात का "श्री नरेंद्र मोदी" जी को ? जो भी कहते है नरेंद्र मोदी खराब है वो जरा आज से 10 साल पहले गुजरात क्या था वो सरकारी आंकड़े देख ले और गुजरात के छोटे छोटे गाँव वालों से पूछ ले पता चल जाएगा उन्हे भी की मोदी जी क्या है ? आज छोटे से छोटे गाँव मे भी अच्छी स्कूल है जहां कम्पुटर भी दिये है और बच्चो को अच्छी सिक्षा भी मिल रही है | "

                   " याद रहे श्री नरेंद्र भाई मोदी जी के नेतृत्व मे ही गुजरात ने देश को " गौ हत्या विरोधी कानून दिया है " ....और कॉंग्रेस ने देश को गौ मांस की फेक्टरी दे रहा है अगर यकीन ना आए तो " कपिल सिंबल की पत्नी के नाम पर रही " अरिहंत एक्सपोर्ट " को ही लीजिये ...ऐसा ही है तब तो चाहती है गुजरात की जनता मोदी जी को और हर तरफ दिखाई देता है एक ही जलवा .........मोदी ......मोदी .....मोदी | "

                  " जनता से जब इस पोल के बारे मे पूछा की आप इस पोल से सहेमत हो और अगर सहेमत हो तो क्यू ? तो जनता ने भी काफी रोचक जवाब दिये "
जनता ने क्या कहा काँग्रेस के बारे मे 
* सिर्फ वादे करती है काँग्रेस
* महेंगाइ मिटाने की जगह महेंगाइ बढ़ा दी
*  भ्रष्टाचार की नदिया बहा दी
*  कानून का गलत इस्तेमाल कर रही है काँग्रेस
* अपने मंत्रियो के पाप छुपा रही है काँग्रेस
* घर देने का वादा भी "दिल्ली की शीला दीक्षित "के वादे जैसा ही है
* 3000 का आकाश टेबलेट नहीं दे पायी काँग्रेस और बात करती है कंप्यूटर देने की
* गरीबो की बात और उनका दर्द नहीं समजती है काँग्रेस

बहुत कुछ कहे रही है जनता ,और सायद यही बात है की काँग्रेस अपनी लोकप्रियता गवा रही है

 ये वीडियो जरूर देखिएगा


::::

:::

::

Saturday, September 15, 2012

वोलमार्ट का विरोध अमेरिका मे भी ( वीडियो सबूत के साथ )


वोलमार्ट के खिलाफ निकाला ये मोर्चा गरीबी बढ़ाता है वोलमार्ट

FDI के नाम पर सरकार ने किसोनो और व्यापारी दोनों का एक साथ ठगने का गिनोना प्लान बनाया है निचे रिटेल FDI के बारे कुछ सरकार के द्वारा कुछ दलीले दी गयी है जो की बिलकुल झूठ है
देखिये कैसे ?

1.रिटेल FDI से 1 करोड़ रोजगार पैदा होंगे
- ये बिलकुल झूट हिया क्योंकी वालमार्ट अपने 21 लाख करोड़ के कारोबार में यूरोप और अमेरिका में सिर्फ 21 लाख लोगो को ही रोजगार उपबल्ध करा पायी तो भारत में कैसे 1 करोड़ लोगो को रोजगार देगी .
2.किसानो की आमदानी 30% बढ़ जायेगी
-ये बिलकुल झूट है क्योंकी अगर ऐसी बात होती तो अमेरिका को अपने किसानो को फार्म बिल 2008 के तहत 16 लाख करोड़ की सब्सिडी अपने किसानो को नहीं देनी पड़ती

3.बिचोलिये ख़त्म हो जायेगे
ये तो सरासर झूट है क्योंकी बड़े रीटालारो के कारन बिचोलिये घटते नहीं बल्की बढ़ जाते हैं .इससे नए किस्म के बिचोलिये जैसे गुणवत्ता नियत्रक ,मानकीकरण करने वाले पेकेजींग सलाहाकार, सर्तिफीकेसन एजेंसी आदि रिटेल कारोबार के मुख्य अंग होते है और ये सब किसानो की आमदानी में से ही हिस्सा बांटते हैं
वोलमार्ट के वर्कर और लोग भी कहते है बंध करो वोलमार्ट

4.मध्यम और छोटे निर्माताओ को लाभ होगा
ये सरकार हमको बेवकूफ समज रही है शायद नहीं तो ऐसी घटिया बात नहीं करती क्योंकी वर्ल्ड बैंक के नियम के अनुसार भारत रिटेलरो को सामन खरीदने के लिए बाध्य नहीं कर सकती हैं

5.गरीबी घटेगी
सरकारी की ये भी बड़ी हास्यापद दलील है .क्योंकी अगर वालमार्ट की वजह से गरीबी घटती है तो फिर क्यों 2011 में अमेरिका की गरीबी 15% बढ गयी .और दिलचस्प बात है की अमिका के जिन जिन राज्यों में वालमार्ट है वही गरीबी ज्यदा है....

अमेरिका मे फिलहाल चल रहे विरोध का चित्र

अमेरिका से आते ही सोनिया ने किराणा में एफ डीआई को मंजूरी डी..अनर्थ हो गया--
१-भारत का खुदरा बाजार २०१६ में ४५ लाख करोड का हो जायेगा.

२-वालमार्ट आदि कम्पनिया ४ साल अंदर ही कम से कम ५०% खुदरा बाजार कब्जा कर लेंगी जो पक्का है. ब्रिटेन में इनका कब्ज़ा ८५% बाजार पर है.

३-यानि भारत में विदेशी कम्पनिय करीब २३ लाख करोडका खुदरा व्यापर करेंगी.

४-सरकार ने इनको ७० % ग्लोबल परचेज की छूट डी है यानि करीब 23 x 70% = 16 लाख करोड शुद्ध विदेशी सामान वे भारत में लाकर बेचेंगे और यह १६लाख करोड सीधे सीधे विदेश चला जायेगा.

५- देखिये ३०% प्रतिशत माल ये लोकल उधोगो और उत्पादकों से लेगी और उसपर करीब २०% मुनाफा अपने देश भेजेगी यानि 23 x 30% x 20% = 1.38 lakh karod या कहिये की करीब डेढ़ लाख करोड और मुनाफा सीधे सीधे विदेश चला जायेगा
9 मार्च 2012 का चित्र है ये

६- अब दोनों लूट जोडीये – १६ लाख करोड और डेढ़ लाख करोड , कुलमिलाकर१७५०००० करोड शुद्ध रूप से हर साल भारत से बाहरजाता रहेगा. यानीभारत में कंगाली की गारंटी की जा रही है. इसी वालमार्ट की वजह से अमेरिका में गरीबी आ गयी है लोग सडको पर उतर आये हैं. करीब १७ लाख करोड से कितना रोजगार पैदा किया जा सकता है आप अंदाजा लगा सकते है..अब ये रोजगार विदेशो में उनके देश में पैदा होगा और उतना ही भारत में समाप्त होगा..यदि हर ५ लाख रुपये एक आदमी का रोजगार गिने तो भारत में४ करोड लोग पूरी तरह रोजगार विहीन हो जायेगे..
भारत में २०१६ में खुदरा व्यापार ४५,००,००० करोड और ७०% ग्लोबल खरीददारी : क्या इसका मतलब भी समझते हैं, खुदरामें एफ डी आई देश के साथ धोखा है जिसे सिर्फ कांग्रेस ही कर सकती है....
जो वालमार्ट १५ देशो के कुल खुदरा बाजार के ६५%-८५% धंधे पर कब्ज़ा करने के बावजूद कुल मात्र २२ लाख लोगो को ही नौकरीदे सकी है, वह भारत में १,००,००,००० रोजगार कैसे दे पायेगी, इस झूठी तर्क ने कांग्रेस को कही का नहीं रखा है. यदि खुदरा किराना में विदेशी दुकानों की अनुमति दी गयीतो भारत में करीब८ करोड लोग आंशिकरूप से और ४ करोड लोग पूर्ण रूपें से बेरोजगार हो जाएंगे..

७-जिस भारत देश का कुल सालाना बजट हो २० लाख करोड का हो, उस देश से हर साल साढ़े सत्रह लाख करोड हर साल विदेश जाने का दूरगामी परिणाम क्या




अब देखते है कैसे हुवा था अमेरिका मे इस "वोलमर्ट" का विरोध देखिये ये वीडियो 









             " ये वीडियो आपने देखे अब बोलिए अगर वोलमर्ट वाकई मे फायदेमंद होता तो दुनिया भर मे उसके खिलाफ उसी के वर्कर और जनता ऐसा प्रदशन नहीं करती
जो लोग ये वीडियो पर यकीन नहीं करते है उनके लिए ये एक और लिंक है जाइए यहाँ
 http://launionaflcio.org/2012/7455/no-walmart-in-chinatown.html


दोस्तो विरोध करिए वोलमार्ट का ...आर आपको बेवकूफ बना रही है पूरी दुनिया के लोग कहते है वोलमार्ट गरीबी बढ़ा रहा है वही पर काँग्रेस सरकार कहेती है फायदेमंद है वोलमार्ट
:::::

::::

::::


:::

::

Tuesday, September 11, 2012

टॉइलेट पेपर पर भी अशोक चक्र तो क्या सरकार भी है गुनेगार ?

 
                             " टॉइलेट पेपर पर जब सरकार खुद अशोक चक्र लगाती है तब वो क्यू नहीं कहेलाती देशद्रोही ? और क्यू नहीं दिखता उस "अशोक चक्र" मे देश के "संविधान का अपमान " ? कमाल है जब एक कार्टूनिस्ट सच्चाई बताता है देश की तो सरकार उस कार्टूनिस्ट को देशद्रोही करार देती है मगर टॉइलेट पेपर पर सरकार के द्वारा ही लगाए गए अशोक चक्र के लिए क्या काँग्रेस सरकार देश के रेलमंत्री को भी देश द्रोही करार देगी क्या ? "

* ये दोहरी चाल जनता के लिए ही क्यू ? 

                               " सरकार और मंत्री दल कुछ भी करे चाहे वो संसद मे सो जाए या संविधान का सारे आम भंग करे तब वो क्यू नहीं कहेलाते है देशद्रोही ? एक कार्टूनिस्ट ही क्यू ?क्या "एम एफ हुसैन" के खिलाफ भी कभी सरकार ने कडा रुख अपनाया था ? नहीं ...कभी नहीं अपनाया तो फिर आज "असीम त्रिवेदी" ही क्यू ? क्या ऐसा करके सरकार जनता की आवाज़ को रोक सकेगी तो जवाब आएगा नहीं ...नहीं रोक सकती जनता को ऐसे मे तो और भी सरकार की छबी जनता के मन मे खराब ही होगी | "

* घोटाले बाज सरकार को कोई उसके खिलाफ बोले ये पसंद नहीं है 

                               " जनता उसके घोटाले या सरकार के जुल्म के खिलाफ आवाज़ उठाए ये जरा भी सहेती नहीं है सरकार ...जैसे 4 जून की काली रात और आज ये असीम त्रिवेदी जी हाँ इंका गुनाह इतना है की ये जनता को सच्चाई बता रहे है तो क्या हर सच बोलनेवालों का अंजाम ये सरकार ऐसा ही करेगी ? क्या जनता सहेती रहे उनके घोटाले और जुल्म अगर ऐसा ही चलता रहा तो यकीनन ही भारत मे एक और क्रांति होगी जिसकी जिम्मेदार ये तानाशाही भरी सरकार ही होगी जो गैरजिम्मेदार भी है और घोटालो की पाठशाला भी ,खुद के पाप बचाने के लिए जनता पर जुल्म | "

* थूकता हु ऐसी सरकार पर

                            " सरकार अगर न्याय प्रिय है तो पहले रेल मंत्री को भी जेल मे डाले क्यू की उसने भी किया है देश के संविधान का अपमान अगर ऐसा नहीं करती है तो फिर थूकता हु इस सरकार पर ...हाक थू |"

* पढ़िये असीम त्रिवेदी का खत जो जेल मे बैठे लिखा है 

* ये है मनमोहन जिस पर सर रखते है वो तोलिया 
          तो मनमोहनको भी डालो जेल मे भाई संविधान का अपमान है ये





* और ये है असीम ने बनाया हुवा कार्टून 
           


                           " अब बोलो दोस्तो क्या मनमोहन गुन्हेगार नहीं है ? क्या रेल मंत्री गुनहगार नहीं है ? तो देश का कानून उनके खिलाफ क्यू कार्यवाही नहीं करता है? क्या इस देश का कानून फिर से एक बार साबित कर रहा है कीकानून सरकार के हाथ की कठपुतली है ?"

मैंने कभी कमेन्ट नहीं मांगी है आप से मगर आज दीजिये 


इस ब्लॉग मे पढ़ने लायक और भी 

कोंग्रेसी नेता को पड़े जूते 
::::::
:::
::

::::

:: 
 

Saturday, September 8, 2012

शीला दीक्षित सरकार चोर है ( आरटीआई )



                                         "शीला दीक्षित और काँग्रेस सत्ता पाने के लिए कितना झूठ बोल सकती है वो खुद आप ही देखिये सायद काँग्रेस को अब सत्ता का एक ऐसा नशा हो गया है, जैसे किसी "चरसी को चरस" का बिना चरस लिए चरसी को चैन नहीं आता है और अगर उसके पास पैसे न हो तो वो कुछ भी करता है मगर चरस तो लेता ही है बिलकुल वैसा ही काँग्रेस पार्टी सत्ता पाने के लिए कर रही है और किया भी था "दिल्ली चुनाव के वक़्त " ये मै नहीं मगर एक "आरटीआई"कहे रही है |"

* ये योजना क्या थी ?
                                           " सुनीता भारद्वाज द्वारा दाखल की गयी "आरटीआई" ने दिल्ली की शीला दीक्षित सरकार को झुका ही दिया है बात उन दिनो की है जब दिल्ली मे 2008 का चुनाव था और चुनाव के वक़्त बड़े ज़ोर शोर से शीला दीक्षित ने " राजीव रत्न आवास योजना" की घोषणा की थी और जिसे कहा गया था " सच होगा सपना जब होगा एक घर अपना " जिस मे कहा गया गया था की जिन परिवार की वार्षिक इन्कम 60000 है और जिन लोगो के पास घर नहीं है और जो लोग दिल्ली मे पिछले 10 साल से रहते है उनको सरकार देगी एक घर वो भी आपको तो सिर्फ 60000 हजार ही भरने है और पा सकते है आप " राजीव रत्न आवास योजना" के अंतर्गत खुद का मकान | "

* शीला दीक्षित के झूठे वादे और बटोरे पैसे
                                            " आरटीआई " के रिपोर्ट की बात करने से पहले आपको बता दु की शीला दीक्षित ने उस वक़्त हर मीडिया मुलाक़ात मे ये ज़ोर शोर से कहा था की " 50000 मकान की जगह हमारी सरकार ने 60000 हजार मकान तैयार किए है" और देखनेवाली बात ये है की शीला दीक्षित के कहने के मुताबिक अगर मकान तैयार किए गए है तो आजतक किसिकों क्यू मकान नहीं मिला है ?और आगे शीला दीक्षित ने कहा था की "हमारी सरकार 2012 तक 4 लाख मकान तैयार हो जाएंगे और वो मकान गरीबो को दिये जाएंगे और आपको सिर्फ 60000 हजार रुपये भरने है बाकी 1 लाख की सहाय आपको केंद्र की काँग्रेस सरकार करेगी और आपकी बाकी रक्कम दिल्ली के काँग्रेस सरकार भर देगी " ऐसा कहेकर प्रति फोरम 100 रुपये लेकर फॉर्म भरवाये गए थे और उस वक़्त 2 लाख 63 हजार फॉर्म उन्होने भरे थे गरीबो से 100 रुपये लेकर के याने आप हिसाब लगाए 26300000 रुपये उन्होने झूठ बोलकर बटोरे |"

* सुनीता ने खोली थी पोल
                                            " 2008 से लेकर अब तो 2012 आ गयी मगर किसी को मकान नहीं मिला है आजतक और मिलेगा भी कैसे मकान बने ही नहीं है और न ही सरकार की कोई ऐसी योजना भी है और इस बात का खुलासा हुवा सुनीता भारद्वाज द्वारा लगाई गयी एक "आरटीआई " से आइये देखते है "आरटीआई" ने क्या कहा ? "

* वो "आरटीआई" क्या थी ?
                                              " जब सुनीता ने "आरटीआई" से जवाब मांगा तो दिल्ली के लोकायुक्त " जस्टिस मनमोहन सरीन "ने अर्जी नंबर सी-244/लोक/2009 जिसकी तारीख थी 12/11/2009 के तहत ये कहेकर जवाब दिया की " इतनी जमीन ही नहीं है तो सरकार मकान कहाँ बनाएगी ? "लोकयुक्त ने आगे ये भी कहा की रजिस्ट्रेशन एक्ट 1985 के तहत सरकार गरीब लोगो को मकान दे सकती है मगर जूठे वादे कर नहीं सकती जब की सरकार के पास सिर्फ 9439 मकान ही बन सके उतनी ही जमीन है और वो जमीन सरकार हस्तक भी है तो फिर जब पर्याप्त जमीन ही नहीं है सरकार के पास और जहां 9439 मकान बन सकते है वहाँ सरकार ऐसा कैसे बोल सकती है की 60000 मकान तैयार हो चुके है ? या तैयार करेंगे अगर 60000 हजार मकान बनाने के लिए भी पर्याप्त जमीन सरकार के पास नहीं है तो वो कैसे कहे सकती है की 4 लाख मकान 2012 तक बन जाएंगे गरीबो के लिए ....ये तो गरीबो की गरीबी का सरासर मज़ाक ही उड़ाया |"शीला दीक्षित सरकार को फटकारते हुवे आगे कहा गया है की "शीला दीक्षित सरकार झूठ बोलती है और गरीबो को सपने दिखाकर चुनाव जीतने मे ही मानती है |"

* लोकयुक्त ने पूछा ये 100 का चक्कर क्या है ?
                                                " लोकयुक्त के द्वारा जब शीला दीक्षित सरकार से लोगो के पास से 100 रुपये प्रति फॉर्म लेने के बारे मे पूछा गया तो देखिये शीला दीक्षित सरकार ने कितना झूठ बोला था उसने कहा था की " 100 रुपये प्रति फॉर्म तो हमने दिल्ली मे बसनेवाले गरीबो की गिनती के लिए लिये हुवे थे " याने 26300000 रुपये बटोरे ,तो क्या गरीबो की संख्या कितनी है उसकी जानकारी भी सरकार के पास नहीं है जो उन्हे गरीबो से ही पैसे लेकर गिनती करनी पड़ी ? "

* शीला दीक्षित ने किया कबूल :
                                              " शीला दीक्षित ने किया कबूल एक एफ़िडेविट के जरिये की " उनके पास 60000 हजार मकान तो नहीं है गरीबो के देने के लिये क्यू की उतनी जमीन नहीं है फिलहाल सरकार के पास सिर्फ 9436 फ्लेट ही उपलब्ध है जो सरकार गरीबो को दे सकती है " राजीव रत्न आवास योजना " के तहत ...अब आप खुद ही देख लीजिये एक तरफ काँग्रेस सरकार मकान देने का वादा करती है और चुनाव जीतने के बाद एफ़िडेविट के जरिये कहेती की पर्याप्त जमीन नहीं है हम मकान नहीं दे सकते है जब 60000 हजार मकान भी नहीं तो 4 लाख मकान 2012 तक बन जाएंगे कहेकर गरीबो को सपने दीखानेवाली ऐसी सरकार के बारे मे आपका क्या खयाल है ?

इस ब्लॉग मे पढ़ने लायक :

कोंग्रेसी नेता को पड़े जूते ( अमेरिका मे )
::::

::::       

:

Thursday, September 6, 2012

(वीडियो देखिये) सबसे बड़े घोटाले के अंदर भी घोटाला : कोयला घोटाला


काँग्रेस की केंद्र सरकार ने भारत की जनता को कितनी गहरी चपत लगायी है, धोखा दिया है देश को, देशवासियों को ....!!!
                " ०४-०९-२०१२ के एन.डी.टी.वी. के प्राइम टाइम रवीश के साथ रात ९ बजे का ये वीडियो है .... इसमें देखे की कल संसद में केंद्र सरकार के मंत्री ने एक सवाल के जबाब में क्या कहा था "

                " कोयला घोटाले की जिस "सी. ऐ. जी". की रिपोर्ट आई है २००४-२००९ के बीच हुए कोयला आवंटन को लेकर, उसमे केंद्र सरकार ने देश की कोयला खदानों को कोडियों के बाव बेंच डाला अपने कांग्रेसी रिश्तेदारों को एवं कोयला निकला भी नहीं क्यूंकि खदानों के बाजारू भाव बढ़ने का इन्तेजार किया जा रहा था और मित्रो, दूसरी ओर केंद्र सरकार ने चुपचाप से दक्षिण अफ्रीका सरकार से भारत की निजी कंपनियों के लिया कोयला आयात करने की अनुसंशा की गयी , वो भी भारत के बाजारू भाव से सीधे-सीधे १०० गुना दाम पर , वो भी देश में कोयले की कमी को आधार बना कर....!!!!

              " संसद मे आज कोयला मंत्रालय ने कहा की " मंत्री मडल के अनुमोदन से कई कंपनी खास तोर पर "कॉल इंडिया"उनको विदेशो मे कोयले के लिए बोली बोलनी पड़ी क्यू की देश मे मांग की आपूर्ति के लिए ये कदम उठाना जरूरी था " अब यहाँ गौर करे दोस्तो "अपने लेखित बयान मे मंत्रालय ने कहा है की "दक्षिण आफ्रिका के मोज्म्बिक "से जो चीज जो कोयला भारत की बाजार मे 10 रुपये मिलता है वही कोयला 100 गुना ज्यादा दाम देकर मंगवाया गया था "

       * संसद मे आखिर क्या पूछा गया ?
               " संसद मे उठे सवालो पर काँग्रेस ने "झीरों लॉस " बताया और कहा की कोयला नीकला ही नहीं है " जिसका साफ मतलब होता है की कोयले की होल्डिंग हुई है और आज की गयी कोयले की होल्डिंग कल भारत के कोयला बाजार मे होल्डिंग करनेवाली कंपनिया महेंगे दाम मे बेचेगी जिनहोने सस्ते दाम मे खरीदा है "कोयला खदान "

                " आगे काँग्रेस की सरकार ने बताया की मांग आपूर्ति के बढ़ते अंतर को पूरा करने के लिए और देश की ऊर्जा स्वेछा बढ़ाने के लिए उसको मुद्दे नजर रखते हुवे कॉल इंडिया ने विदेश मे कोयला संसाधनो के अधिग्रहण का निर्णय लिया और इसी द्रष्टि से "सी आई एल "मोज़ाम्बिक "सरकार द्वारा संचालित खदान बोली प्रक्रिया मे सफल बोली करता के रूप मे सामने आई थी और मोज़ाम्बिक के टोरंटो मे प्राप्त हुवा 224 वर्गकीलों मीटर का क्षेत्र |"

* अब ये समजो जरा :  
                  " मित्रो, वर्ष २००४ से लगातार मनमाने दाम पर कोयला अफ्रीका से आयात हो रहा है देश में , और देश का कोयला उपयोग नहीं हो रहा...सिर्फ दबा हुआ है....!!!!! जब कॉंग्रेस के संसद "विजय दर्डा "ने कहा की सारे आरोप निरधार है तब संसद मे ये सवाल उठा था | "

* एक बात और :
                " आप इस वीडियो मे देख सकते है की मुख्तार अब्बास नक़वी के हाथ मे एक कागज है जो संसद मे उठाए गए सवाल का है जिस पर काँग्रेस की सरकार ने लेखित जवाब दिया हुवा है अगर मित्रो देश के कोने कोने से एक एक "आर टी आई " दाखिल करके वो प्रश्न और जवाब मिल सके तो और भी फस सकती है काँग्रेस सरकार ॥तो आज ही दाखिल करो वो वीडियो मे दिख रहे कागज के लिए एक एक "आर टी आई " अगर आप अपने भारत देश को चाहते हो ...देखो काही देर न हो जाए इस तरहा से अगर आप चुप रहेंगे तो कल देश भी बेच देंगी ये काँग्रेस सरकार ॥तो आओ दाखिल करे एक एक "आर टी आई " जो हम "आम आदमियो" का जनता का हक है  और खोल दे वो पोल जिसके सहारे कर रही काँग्रेस देश वासियो को गुमराह |"


* ये भी कुछ और ही दर्शाता है
                    " भारत की अपार कोयला संपति काँग्रेस सरकार कोयला माफिया और अपने रिश्तेदारों को सस्ते दाम मे बेचकर देश का कोयला सुरक्शित कर लिया ताकि वक़्त आने पर महेंगे दाम मे ये लोग बेच सके और चूस सके भारतवासियों को यहाँ पर भी काँग्रेस सरकार का घोटाला था और दूसरी तरफ देश मे चल रहे कोयले के दाम से भी 100 गुना ज्यादा दाम देकर विदेश से कोयला मंगवाया जाता है ..........तो सवाल ये उठता है की ये 100 गुना ज्यादा दाम क्यू भाई ? ये भी घोटाला ही है दोस्त | "

* याद रहे :
                  " सस्ते दाम मे कोयले की खदाने बेच दी अपने ही चहितों को अगर आपको विश्वास न आए तो ये रहा वो खत जिसे "सुबोधकान्त सहाय " ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जी को लिखा था और सिफ़ारिश की थी की इन लोगो को खदान मिले और दूसरे ही दिन खत मे जिन लोगो की सिफ़ारिश की थी उनको मिल गयी थी खदान और दूसरी तरफ विदेशो से महेंगे दाम मे कोयला लाया जा रहा था वो भी 100 गुना महेंगे दाम मे याने डबल धोखा देशवासियों के साथ  सोचो सरकार किसके साथ है देश के "आम आदमी" के साथ या फिर "कोयला माफिया " के साथ ...
जागो दोस्तो अब भी वक़्त है और दाखिल करो "आर टी आई " वरना आपको कल के लिए रोना पड़ेगा |"

*  बहुत ही जल्द "केग "फोड़ेगा एक नया रिपोर्ट बॉम्ब 
                " जी हाँ दोस्तो क्यू की केग दावा कर सकता है की प्राइवेट कंपनियो को दिये गए ब्लॉक की विवादास्पद वेलयु 1:85 हजार करोड़ से भी 10 गुना ज्यादा है क्यू की रिपोर्ट ये भी कहेता है की "एनटीपीसी" के 2009 के रिपोर्ट के तहत इंपोर्टेड कॉल की लेंडेड कीमत थी 2874 रुपये प्रति टन  तो अब इंतज़ार है केग के इस रिपोर्ट का |"
     
ये रहा वो वीडियो मित्रो जरा ध्यान से देखिएगा, वो कागज भी देखिएगा 




इस ब्लॉग मे पढ़ने लायक और भी है
गुजरात मे गेस महेंगी क्यू ? केंद्र की कॉंग्रेस सरकार का अन्याय
::::
::
::
:

Wednesday, September 5, 2012

थेन्क्यु वॉशिंगटन पोस्ट


                         " जो बात हमारे देश की मीडिया कहे नहीं पाती है उस बात को आप ने कहा, सच और सच्ची बात को जनता के सामने निर्भीक होकर रखने के लिए तहे दिल से आप का शुक्रिया |"

                          " भारत की मीडिया वही देखती है और वही सुनती है जो काँग्रेस के नेता कहते है क्यू की देश मे जब भी कोई बड़ा घोटाला होता है तो ये मीडिया वाले कुछ और ही दिखाते है जैसे की हाल मे हुवा देश का सबसे बड़ा कोयला घोटाला तो जनता के सामने कोयला घोटाला को दबाने के लिए उन्होने याने हमारे देश की मीडिया ने " कांडा " को दीखाने का चालू कर दिया और लंबी लंबी चर्चा "कांडा " के कांड पर चालू कर दी .......भाई इस देश मे सबसे बड़े घटित कोयला घोटाले से भी बड़ा ये कांडा क्यू ? क्या " कांडा " देश मे हुवे कोयला घोटाले से भी बड़ा है क्या ? ....अब क्या करे ये है हमारे देश की मीडिया घोटाले होते ही इनको याद आते है कभी "सनी लियॉन तो कभी बिपाशा " सायद हमारे देश मे हुवे घोटालो मे देश की  मीडिया भी उतनी ही गुनहगार है जितना की काँग्रेस सरकार है ...वर्ना देश के सबसे बड़े कोयले घोटाले से भी बड़ी "सनी लियॉन" या "कांडा" नहीं होता |"
            
                " काश हमारे देश की मीडिया आप से सीखे की मीडिया कैसी होनी चाहिए ? जो गुनहगार है उसे बचाना  आखिर किस देश के संविधान मे लिखा है और क्या पत्रकारिता मे भी ऐसा लिखा है की मीडिया को हर हमेश सरकार को ही महत्व देना चाहिए और सरकार के गुनाहो को छुपाना ही चाहिए ...जब देश ऐसे मोड पर खड़ा है की जहां कदम रखते ही आपको एक नया घोटाला मिलता है तब देश की मीडिया क्या कर रही है ?जनता के सामने सच्चाई रखो झूठ को महत्व देना क्या वाजिब है ? देश मे हुवे हर घोटाले को दबाने मे मीडिया का हाथ रहा है क्यू की उन्होने कभी घोटालो पर चर्चा की ही नहीं चर्चा की तो "सनी लियॉन" के फिगर की और "कांडा" ने किस कदर मारा "गीतिका" को...भाई मीडिया वालों देश को गीतिका या सनी के फिगर से भी ज्यादा जरूरत इस देश मे होनेवाले घोटालो के पर्दाफाश होने की है |"
                   
                   " अंबिका सोनी कहे रही है की देश के प्रधानमंत्री का अपमान कैसे सहेन होगा ? विरोध करो सब भारतीय ...मगर किस बात का विरोध करे क्यू की जो भी वॉशिंगटन पोस्ट ने लिखा है वो गलत थोड़ा ही है हमारे प्रधानमंत्री ने देश के लिए क्या किया है ? उन्होने तो बस घोटाले करनेवालों को बचाया है ?और खुद भी बड़े बड़े घोटाले कर रहे है  तो देशवासी कैसे करेंगे विरोध ?हाँ ,विरोध भी करते अगर हमारे प्रधानमंत्री जी ने भ्रष्टाचारी मंत्री यो को कभी बचाया नहीं होता ?विरोध तो काँग्रेस की नीतियो का होना चाहिए जो घोटाले करके भी चिल्ला रही है की इस देश का प्रधानमंत्री प्रामाणिक है ...प्रामाणिक है तो इतने घोटाले कैसे हुवे देश मे ? और कैसे खुद ने भी किया घोटाला ?सुबोधकान्त के एक खत के जरिये कोयला ब्लॉक दे भी देते है ये कैसे संभव है की हम माने की प्रामाणिक है प्रधानमंत्री ?"
                        
                      "कभी इस देश के प्रधानमंत्री ने सोचा की इस देश का आमआदमी 28 रुपये मे कैसे गुजारा करेगा ? क्यू की उनके ही अध्यक्षता वाली कमिटी ने ये घोषणा कर दी थी की 28 रुपये कमानेवाला आदमी इस देश मे आराम से गुजारा कर सकता है याद करो जब आप सभी सांसदो को महेंगाइ की मार पड़ी और आपने आपका पगार न जाने कितना गुना बढ़ा दिया तब क्या भूल गए की लाखो रुपये आपका पगार होते हुवे भी अगर आपको महेंगाइ का मार सहेन नहीं हो रहा है तो 28 रुपये कमानेवाला इस देश का आम आदमी कैसे गुजारा करेगा ?...अरे मै तो कहूँगा "शाब्बास वॉशिंगटन पोस्ट " जो करी हमारे देश की मीडिया नहीं कर सकी वो आपने कर दिखाया |"
                         
                          " क्या किसी घोटालेबाज मंत्री को कभी प्रधानमंत्री ने सजा दी ? नहीं दी, क्यू की वो खुद भी तो कहाँ प्रामाणिक है ...जनता के सामने हर घोटाले को छुपाया ,क्या उनको पता नहीं था की 2 जी मे गड़बड़ी है ? जानते थे की घोटाला हो रहा है फिर भी घोटाला होने दिया आखिर क्यू नहीं रोका प्रामाणिक प्रधानमंत्री ने वो घोटाला भाई ?"

                      " फिर से एक बार तहे दिल से "थेंकयू  वॉशिंगटन पोस्ट " करोड़ो भारतवासी के सामने सच्चाई रखने के लिए और अच्छा किया वॉशिंगटन पोस्ट के लेखक ने जो माफी मांगने से इन्कार कर दिया ,धन्यवाद आपका हमारे सरकार की तो आदत है की " सरकार करे वो लीला और जनता करे वो पाप " अगर दम है भारतीय मीडिया मे तो करे वो भी देश मे हुवे घोटालो का पर्दाफाश ....आप सभी भारतवासियों को क्या लगता है क्या करेगी हमारे देश की मीडिया कोई घोटाले का पर्दाफाश या फिर चंद रुपयो के लिए करोड़ो भारतवासियों से करती रहेगी यूंही धोखा ? "

इस ब्लॉग मे पढ्नेलयक और भी है 

:::
:::

::
:

Tuesday, September 4, 2012

(वीडियो देखिये)मोदी के खिलाफ झूठ बोला तो कोंग्रेसी नेता को जूते पड़े

              " मेरी पिछली पोस्ट मे आपने पढ़ा की कैसे झूठी अफवा फैलानेवालों को गुजराती लोग सबक सीखाते है और कुछ लोगो को मेरी पोस्ट अच्छी भी नहीं लगी और कहने लगे की ये झूठी खबर है मगर दोस्तो अब लाया हु मै एक सबूत आप भी देखे की वहाँ क्या हुवा था ? "

देखो "शक्ति सिंह गोहील" के साथ क्या हुवा था ? कैसे पड़े थे जूते ?
लोग साफ कहे रहे है की उसको ( शक्ति सिंह गोहील कोंग्रेसी नेता ) बोलते हुवे शर्म नहीं आ रही है ?
ये वीडियो जूते पड़ने के बाद का है और बेकाबू लोगो की प्रतिक्रिया भी आप देखे
स्टेज से बार लोगो को शांत रहने के लिए कहा जा रहा था मगर लोग "शक्ति सिंह" को गालियां दे रहे थे 
आयोजक हाथ जोड़कर बिनती करते हुवे नजर आ रहे है 
 "शक्ति सिंह गोहील" को जल्द से जल्द वहाँ से भगा दिया गया था वरना लोग क्या करते ये सोचना भी सोचने की बात बन जाती 

 ये वीडियो ध्यान से देखो लोगो के हाथ मे जूते साफ नजर आ रहे है 
मेरी पिछली पोस्ट थी :
                                 " मोदी के खिलाफ झूठ बोलने पर कोंग्रेसी नेता को पड़े जूते "

ये रहा वो वीडियो  : 
देखिये पहली 1:30 मिनट को ध्यान से देखिये 




देखा क्या वीडियो ? अब मेरी पिछली पोस्ट भी पढ़ो की मैंने क्या लिखा था वो ?

               " दोस्तो ये कोंग्रेसी अपनी टँगड़ी ऊंची ही क्यू रखते है ? सायद इसीलिए ही ये लोग जनता का मार खा रहे है और ताजुब तो तब है जब ये लोग इतने मार खाने के बाद भी सुधरते नहीं है | "

                   " मेरे जिन दोस्तो ने मेरी पिछली पोस्ट पढ़ी नहीं है वो यहाँ जाए और पढे की ये घटना के 3 दिन पहले मोदी जी ने वहाँ पर क्या कहा था ? "

                  " और हाँ ये खबर गुजरात के एक मात्र अखबार " दैनिक आजकाल" मे छपी है और "तेज़ न्यूस चेनल " के ब्लॉग मे भी आप पढ़ सकते है   | "

मेरी वो पोस्ट जिस पर बहेस  हुई थी


:::::
:::
:::
::
::



मोदी के खिलाफ झूठ बोलने पर पड़े कोंग्रेसी नेता को जूते

गुजरात काँग्रेस विरोध पक्ष के नेता "शक्तिसिंह गोहील" 
   
            " काँग्रेस के नेता को अमेरिका मे चप्पल खाना पड़ा जी हाँ ! गुजरात काँग्रेस के नेता और विधानसभा के विरोध पक्ष के शक्तिशाली नेता " शक्ति सिंह गोहील " को अमेरिका के न्यूजर्सी मे विश्व गुजराती समेलन मे आखरी दिन जब उनका भाषण चल रहा तो ये कहेना महँगा पड़ा की " विकाश तो लंका का रावण ने भी किया था मगर गैर रीतियो से और रावण का वाढ भगवान श्री राम ने किया अब ऐसा ही कुछ गुजरात मे हो रहा है और नरेंद्र मोदी भी रावण की तरहा ही गुजरात मे राज कर रहे है तो उनका भी वध आने वाले  चुनाव मे करना ही चाहिए लोकशाही के रूप मे |"
     
               " ये विधान उनको बहुत महँगा पड़ा और उनको जनता मे से फेंकी गयी चप्पल का सामना करना पड़ा जिसके बाद वहाँ पर अफरातफरी का महोल बन गया था और जूतो की बारिश चालू हो गयी थी अमेरिकन गुजरातीओ के द्वारा मगर गौर करनेवाली बात ये है की आखिर काँग्रेस के नेता ने स्वीकार कर ही लिया की गुजरात का विकाश हुवा है जहां दूसरी तरफ इस समारोह के उदघाटन समारोह मे जब नरेंद्र मोदी ने गुजराती जनता को एक वीडियो द्वारा संबोथित किया तब उनका भाषण सुपर हिट रहा था उन्होने कुछ मुद्दे उठाए थे वो भी गौर करने लायक ही है |"

  * आइये देखते है नरेंद्र मोदी ने क्या कहा था उस समारोह मे
श्री नरेंद्र मोदी

* गुजरात के भूतकाल को आप देखेंगे तो नजर आएगा की गुजरात को भूतकाल के शाशको ने तबाही की ओर ही धकेला था मगर वर्तमान सरकार ने "शाशक भाव"  से नहीं " सेवक भाव"  से किया है गुजरात का विकाश "

* सुबह मे 5:30 बजे "गांधीनगर" से वीडियो कोन्फ़रंस द्वारा नरेंद्र मोदी ने संबोधित करते हुवे कहा की गुजरात के विकाश की जब बात पूरा विश्व कर रहा है तब हमने सेवक भाव से किया करी सार्थक हुवा नजर आ रहा है |

* गुजरात का विकाश जिन लोगो को अच्छा नहीं लग रहा है वो लोग वो पक्ष ऐसा प्रचार कर रहे है की "गुजरात पहले से ही विकसित था" आगे जाकर उन्होने कहा की "तो सवाल ये भी उठते है की इस से पहले कभी गुजरात के विकाश के चर्चे पूरे विश्व मे क्यू नहीं हुवे ? और अगर विकाश शील ही था गुजरात तो फिर क्यू गुजरात मे "इंदुलाल याग्नीक जी को महा गुजरात आंदोलन करना पड़ा ? जिस आंदोलन ने पूरे भारत को विचलित कर दिया था जिस आंदोलन से पूरे देश को एक नया रास्ता मिला था |"

* अगर गुजरात पहले से ही विकसित था तो गुजरात मे " नव निर्माण आंदोलन" क्यू हुवा ? क्यू भ्रस्ट शासको के खिलाफ हुवा ये आंदोलन ?

* दिल्ली मे बैठी वर्तमान काँग्रेस सरकार ने जब दुनिया 21 वी सदी मे प्रवेश कर रही है तब विकाश के प्लेन को "टेक ऑफ" कर दिया है उसे गिरा दिया है |

* जातिवाद के राजकारण से उपर उठकर गुजरात के विकास का समर्थन करने का आव्हान मोदी ने किया
अहेम बात ये है :
           " मोदी जी ने कहा था की " देश की आज़ादी के बाद काँग्रेस देश की शासक बन गयी थी और उनका "परिवार वाद" और उनके प्रति "परिवार भक्ति" से देश को काफी नुकसान हुवा है और आज़ादी के लिए जान कुर्बान करनेवालों का इतिहास काँग्रेस की सरकार ने भुला दिया है |"

                                   " काँग्रेस के क़दावर नेता शक्तिसिंह को जनता का मिजाज पता चल गया है की झूठ बोलने पर या अफवाए फैलाने पर गुजरात मे रहनेवाले गुजराती ही नहीं बल्कि अमेरिका मे रहनेवाले गुजराती भी क्या सजा देते है मगर ये सब मामले मे एक बात का स्वीकार करना पड़ेगा जिस बात का स्वीकार शक्ति सिंह ने भी किया है वो है की आज तक काँग्रेस कहे रही थी की गुजरात की प्रगति नहीं हुई है विकास नहीं हुवा है मगर आज काँग्रेस के ही नेता और विधानसभा के विरोध पक्ष के नेता शक्ति सिंह ने ही कबुल किया है की गुजरात का विकास मोदी के नेतृत्व मे हुवा है |"

                           " अमेरिका मे बने इस बनाव को अगर आगामी गुजरात चुनाव से जोड़ा जाए तो यकीनन ही काँग्रेस के लिए मुसीबत के दिन आनेवाले है क्यू की झूठ की बुनियाद पर खड़ा है काँग्रेस का महेल और सामना है गुजरात की बहादुर जनता से | "
ये घटना का वीडियो अगर आपको देखना है तो यहाँ जाए और देखे 
आखिर क्या हुवा था  ?  वीडियो के लिए क्लिक करे यहाँ


ये पोस्ट आप " तेज़ न्यूस चेनल "के ब्लॉग मे भी पढ़ सकते है 

इस ब्लॉग मे पढ़ने लायक और भी है
काँग्रेस का झूठ : मोदी का तमाचा

::::
:::
:::
::
: